Published On : Tue, Aug 1st, 2017

फर्जी कॉल सेंटर: नागपुर साइबर सेल ने भोपाल में मारा छापा


नागपुर:
नागपुर की साइबर सेल पुलिस ने मध्यप्रदेश के भोपाल में नौकरी के नाम पर ठगी करने वाले एक गिरोह पर छापा मारा।
नागपुर. चंद्रपुर जिले के फर्जी कॉल सेंटर का पर्दाफाश करने के बाद नागपुर की साइबर सेल पुलिस ने मध्यप्रदेश के भोपाल में नौकरी के नाम पर ठगी करने वाले एक गिरोह पर छापा मारा। यह गिरोह भी चंद्रपुर की तरह भोपाल के एमपी नगर में फर्जी कॉल सेंटर चला रहा था। सेंटर से 20 युवतियों सहित 28 आरोपियों को हिरासत में लिया गया है। पूछताछ की जा रही है।

नागपुर पुलिस ने आरोपी धर्मेंद्र राठौर (मुरैना) और प्रियेश तिवारी (नोएडा) को गिरफ्तार कर लिया है। यह कार्रवाई नागपुर के कुछ थानों से मिली एक शिकायत के आधार पर की गई। शहर के कई लोगों को इस कॉल सेंटर से ठगा गया था। नागपुर के आर्थिक अपराध शाखा पुलिस विभाग की महिला उपायुक्त श्वेता खेडकर ने बताया कि गत दो दिनों से साइबर सेल के 8 अधिकारी- कर्मचारी मध्यप्रदेश के भोपाल स्थित एमपी नगर में डेरा डाले हुए थे। सोमवार को साइबर सेल के इस दस्ते ने भोपाल पुलिस के साथ संयुक्त रूप से कार्रवाई करते हुए उस फर्जी कॉल सेंटर में छापा मारा, जहां से बेरोजगारों को देशविदेश में नौकरी दिलाने के नाम पर ठगा जा रहा था।

मिली थी शिकायत
पुलिस ने इस फर्जी कॉल सेंटर को संचालित करने वाले आरोपियों के तार देश के और किन शहरों से जुड़े हैं, इसका पता लगा रही है। सूत्रों के अनुसार, नागपुर साइबर सेल पुलिस को गुप्त सूचना मिली थी कि एमपी नगर जोन-2 में काफी दिनों से एक फर्जी कॉल सेंटर चल रहा है। इस कॉल सेंटर द्वारा कई लोगों के साथ नागपुर के कुछ बेरोजगारों से भी ठगी किए जाने की शिकायत पुलिस को मिली थी। कार्रवाई के दौरान पुलिस ने कॉल सेंटर में काम करने वाली 20 युवतियों और 8 युवकों को पूछताछ के लिए हिरासत में लिया है।

मिली थी शिकायत
पुलिस ने इस फर्जी कॉल सेंटर को संचालित करने वाले आरोपियों के तार देश के और किन शहरों से जुड़े हैं, इसका पता लगा रही है। सूत्रों के अनुसार, नागपुर साइबर सेल पुलिस को गुप्त सूचना मिली थी कि एमपी नगर जोन-2 में काफी दिनों से एक फर्जी कॉल सेंटर चल रहा है। इस कॉल सेंटर द्वारा कई लोगों के साथ नागपुर के कुछ बेरोजगारों से भी ठगी किए जाने की शिकायत पुलिस को मिली थी। कार्रवाई के दौरान पुलिस ने कॉल सेंटर में काम करने वाली 20 युवतियों और 8 युवकों को पूछताछ के लिए हिरासत में लिया है।