Published On : Sun, Apr 26th, 2020

महामारी के दौरान मेडिकल काउंसिल द्वारा दी गई सुविधाएं

कोविड-19 की महामारी की वजह से होने वाली परेशानी को देखते हुए महाराष्ट्र मेडिकल काउंसिल द्वारा कुछ सुविधाएं वैद्यकीय छात्रों व वैद्यकीय चिकित्सकों के लिए लाई गई है। महाराष्ट्र मेडिकल काउंसिल के उपाध्यक्ष डॉ विंकी रूघवानी ने बताया कि ऐसे छात्र जिन्होंने एमबीबीएस पास किया हो व एक वर्ष की इंटर्नशिप भी पूर्ण की हो ,उन्हें महाराष्ट्र मेडिकल काउंसिल द्वारा परमानेंट रजिस्ट्रेशन सर्टिफिकेट प्राप्त करना होता है।

उसी दस्तावेज द्वारा पोस्ट ग्रेजुएशन में दाखिला मिलता है ।इसके लिए विद्यार्थियों को ऑनलाइन आवेदन करना पड़ता है और उसके बाद में सारे मूल दस्तावेज महाराष्ट्र मेडिकल काउंसिल मुंबई में प्रस्तुत करने पड़ते हैं। तत्पश्चात महाराष्ट्र मेडिकल काउंसिल द्वारा परमानेंट रजिस्ट्रेशन सर्टिफिकेट जारी किया जाता है ।

इस लॉक डाउन की परिस्थिति की वजह से यह छात्र अपने मूल दस्तावेज मुंबई स्थित ऑफिस में नहीं प्रस्तुत कर पा रहे थे , इसे देखते हुए महाराष्ट्र मेडिकल काउंसिल ने एक विशेष सुविधा इन विद्यार्थियों के लिए शुरू की है जिसके तहत महाराष्ट्र मेडिकल काउंसिल द्वारा एक फॉर्मेट तैयार किया गया है जो महाराष्ट्र यूनिवर्सिटी ऑफ हेल्थ साइंसेज के सारे मेडिकल कॉलेजेस , मेडिकल डीम्ड यूनिवर्सिटीजस में भेजा जाएगा ।

इसमें विद्यार्थी की एमबीबीएस फाइनल पास होने की व इंटर्नशिप पूर्ण करने की सारी डिटेल्स मंगाई जाएगी। सारी डिटेल्स प्राप्त होने के बाद परमानेंट रजिस्ट्रेशन सर्टिफिकेट उन विद्यार्थियों को दिया जाएगा इस सुविधा की वजह से विद्यार्थियों को स्वयं अथवा उनके सर्टिफिकेट लेकर मुंबई जाने की आवश्यकता नहीं पड़ेगी। महाराष्ट्र राज्य में महाराष्ट्र यूनिवर्सिटी ऑफ हेल्थ साइंस के अंडर 40 मेडिकल कॉलेजेस है ,वह राज्य में 8 मेडिकल डीम्ड यूनिवर्सिटी कॉलेजेस है।

डॉ विंकी रुघवानी ने यह भी बताया कि सभी वैद्यकीय चिकित्सकों को हर 5 वर्षों में महाराष्ट्र मेडिकल काउंसिल का रजिस्ट्रेशन नवीनीकरण करने की आवश्यकता पड़ती है। कई ऐसे चिकित्सक हैं जिनके 5 वर्ष मार्च अप्रैल या मई 2020 में समाप्त हो रहे हैं।


लॉक डाउन की वजह से ऐसी स्थिति में उनके लिए अपना रजिस्ट्रेशन नवीनीकरण कराना काफी मुश्किल हो रहा था इसीलिए महाराष्ट्र मेडिकल काउंसिल द्वारा यह रजिस्ट्रेशन करने की जो तारीख है उसे तीन महीने एक्सटेंशन दिया गया है ताकि इन वैद्यकीय चिकित्सकों को कोई असुविधा ना हो। अब वह रजिस्ट्रेशन 30 जून 2020 तक कर सकेंगे। महाराष्ट्र मेडिकल काउंसिल मे तकरीबन डेढ़ लाख महाराष्ट्र राज्य के चिकित्सकों का पंजीयन किया गया है।