Published On : Fri, Dec 5th, 2014

भंडारा : रिश्वत लेते नेत्र चिकित्सा अधिकारी धराया

Bhand_Anil_Sadwe bribe
भंडारा। एक व्यक्ति से सरकारी चिकित्सा अधिकारी द्वारा चश्मा के लिए 250 रुपये की रिश्वत की रकम स्वीकारते हुए रंगेहाथों एसीबी ने गिरफ्तार कर लिया. इससे कुछ देर के लिए सरकारी अस्पताल में हड़कम्प मच गया.

प्राप्त जानकारी के अनुसार, फरियादी ने 4 दिसम्बर को एसीबी, भंडारा से शिकायत की कि मेरी बेटी भंडारा में 8वीं की छात्रा है. उसकी आँख में दर्द होने से सन् 2013 में छोटी-सी शल्यक्रिया करवायी गई. राष्ट्रीय ग्रामीण स्वास्थ्य अभियान व सर्व शिक्षा अभियान अंतर्गत राष्ट्रीय बाल स्वास्थ्य कार्यक्रम संचालित की गई थी. उसी के अंतर्गत वैद्यकीय अधिकारी स्कूल में आकर विद्यार्थियों की जाँच कर आगे जाँच करता था. 1 दिसंबर 2014 स्कूल में मेरी पुत्री की आँख की जाँच कर उसे भंडारा आगे की जाँच के लिए बुलाया गया. 3 दिसम्बर को मैं अपनी बेटी को लेकर सामान्य अस्पताल भंडारा में गया तो आँख की जाँच कर चश्मा लगाने की आवश्यकता बताते हुए 500 रुपये की माँग नेत्र चिकित्सा अधिकारी अनिल माधवराव सालवे (46), भंडारा ने रिश्वत माँगी. पैसे बाद में देने की बात कहकर उसकी शिकायत एसीबी, भंडारा में दर्ज करवा दी.

एसीबी ने शिकायत के आधार पर जाल बिछाकर उपरोक्त को 250 रुपये स्वीकारते हुए रंगेहाथों गिरफ्तार कर लिया. इस कार्यवाही में पुलिस उपअधीक्षक, प्रशांत कोलवाडकर, पुलिस निरीक्षक किशोर पर्वते, जीवन भातकुले, हेमंत उपाध्याय, अशोक लुलेकर, भाऊराव वाड़ीभस्मे, गौतम राऊत, सचिन हलमारे, मनोज पंचबुद्धे, कंगाले, शरद टांगले व पूरी टीम ने अंजाम दिया.