Published On : Thu, Feb 27th, 2020

महाविद्यालयीन विद्यार्थियों की थेलेसिमिया व सिकलसेल की जाँच हो अनिवार्य

– डॉ विंकी रूघवानी ने उप कुलपति डॉ एस.पी.काने को दिया निवेदन

नागपुर– : महाराष्ट्र मेडिकल कौंसिल के उपाध्यक्ष और थेलेसिमिया व सिकलसेल सेंटर के संचालक डॉ विंकी रूघवानी ने राष्ट्रसंत तुकडोजी महाराज नागपुर विद्यापीठ के उप कुलपति डॉ एस.पी.काने से मुलाक़ात की। डॉ विंकी रूघवानी ने एस.पी.काने को थेलेसिमिया व सिकलसेल इस बीमारी के बारे मे अवगत कराया तथा थेलेसिमिया व सिकलसेल के मरीजों को होने वाली परेशानियों के बारे मे बताया।

डॉ रूघवानी ने बताया की थेलेसिमिया व सिकलसेल यह बीमारी को पूरी तरह से रोका जा सकता हैं। इसके लिये हर विद्यार्थी की थेलेसिमिया व सिकलसेल ट्रेट की जांच की जाये तो उन्हें ऐसी संतान पैदा नहीं होगी जिन्हे जिंदगी भर तकलीफ होगी ऐसा उप कुलपति को बताया।

डॉ रूघवानी ने उप कुलपति को अनुरोध किया की विद्यापीठ के अंदर आने वाले सभी महाविद्यालय मैं थेलेसिमिया व सिकलसेल की जांच अनिवार्य की जाये ताकि इन विद्यार्थियों के परिवार मे ऐसा बच्चा पैदा न हो जिसे जिंदगी भर रक्त देना पड़े। उप कुलपति डॉ एस.पी.काने ने डॉ विंकी रूघवानी की बातो को अच्छी तरह समझा और सभी महाविद्यालय को थेलेसिमिया व सिकलसेल ट्रेट की जाँच अवश्य करवाने के निर्देश दिये जायेंगे ऐसा आश्वासन दिया।