Published On : Thu, May 24th, 2018

जरुरी इंजेक्शन मेडिकल हॉस्पिटल में नहीं है उपलब्ध, मरीजों की जान से खिलवाड़

GMCH Nagpur

नागपुर: नागपुर के मेडीकल हॉस्पिटल प्रशासन की लापरवाही एक बार फिर सामने आयी है. मरीजों के लिए अत्यंत उपयोगी, लो ब्लड प्रेशर, दमा, शॉक, हार्ट अटैक और अन्य बीमारियों से पीड़ित मरीजों की देनेवाले इंजेक्शन समाप्त हो चुके है. बावजूद इसके अब तक इन इंजेक्शन को उपलब्ध नहीं कराया जा सका है. जिसके कारण मरीजों की जान पर बन आयी है.

इन इंजेक्शनो के नाम एड्रेनालाईन, नोराड्रेनलाइन, एट्रोपाइन है. यह इंजेक्शन मेडिकल हॉस्पिटल में मौजूद नहीं है. जिसके कारण बीपी के मरीजों को और अन्य मरीजों के परिजनों को यह इंजेक्शन बाहर से लाने पड़ रहे है. डॉक्टरों की मज़बूरी है कि उन्हें मरीजों को बाहर से इंजेक्शन लिखकर देने पड़ रहे है. जबकि यह इंजेक्शन मेडिकल में मुफ्त में उपलब्ध होती है. यह इंजेक्शन न तो आईसीयू में है और न ही वार्ड में.

जब पेशेंट गंभीर रूप से हॉस्पिटल में भर्ती होता है. तब यह इंजेक्शन उसे लगाने पड़ते है. लेकिन मरीजों के परिजनों को बाहर से इंजेक्शन लाने में देरी भी होती है. ऐसे में मरीज की जान को भी खतरा है. ख़ास बात यह है कि इसकी जानकारी वरिष्ठ डॉक्टरों को भी है. बावजूद इसके वे इंजेक्शन की उपलब्ध्ता को लेकर गंभीर नहीं है. मरीजों को लेकर मेडिकल प्रशासन और मेडिकल के वरिष्ठ अधिकारी हमेशा से ही गंभीर नहीं होने का आरोप लगता रहा है. सरकार भी मेडिकल जैसे बड़े हॉस्पिटल में दवाइयों की उपलब्धता को लेकर गंभीर दिखाई नहीं देती.