Published On : Thu, Sep 10th, 2020

सभी एमएसएमई इकाइयों के लिए अब उद्यम पंजीकरण अनिवार्य – शाह

नागपुर – एमएसएमई मंत्रालय के उद्यम पंजीकरण पोर्टल पर अब हर एमएसएमई इकाई को पंजीकरण के लिए अनिवार्य रूप से आवेदन करने की आवश्यकता है और उद्यम पंजीकरण प्रमाणपत्र प्राप्त करना अनीवार्य है,ये वक्तव्य एमएसएमई विशेषज्ञ सीए जुल्फेश शाह ने एमएसएमई के लाभ और उद्यम पंजीकरण पर आयोजित एक वेबिनार को सम्बोधित करते हुए कहा. उद्यम पंजीकरण दाखिल करने के लिए कोई शुल्क नहीं होगा।

उद्यम पंजीकरण के लिए इकाई के मालिक / प्रतिनिधि के आधार नम्बर की आवश्यकता होगी। 1 जुलाई 2020 के पश्चात ईएम-II या उद्योग आधार कार्ड के तहत पंजीकृत सभी मौजूदा उद्यमों को उद्योग पंजीकरण पोर्टल पर फिर से पंजीकरण करना होगा. पंजीकृत सभी उद्योगों को नई अधिसूचना के अनुसार फिर से वर्गीकृत किया जाएगा। 30 जून, 2020 से पहले पंजीकृत मौजूदा उद्यम केवल 31 मार्च 2021 तक के लिए मान्य रहेंगे.उदयम पंजीकरण संख्या वाला उद्यम आइडेंटिटी नंबर उद्यम पोर्टल में अपनी जानकारी को ऑनलाइन अपडेट करेगा, जिसमें पिछले वित्तीय वर्ष के लिए आईटीआर और जीएसटी रिटर्न का विवरण और स्वयं की घोषणा पर आवश्यक अन्य अतिरिक्त जानकारी शामिल करना होगा. ऑनलाइन उद्योग पंजीकरण पोर्टल में निर्दिष्ट अवधि के भीतर संबंधित जानकारी को अपडेट करने में विफलता, उद्योग रेजिस्ट्रेशन के निलंबन के लिए उत्तरदायी होगा, श्री शाह ने समझाया।

एमएसएमई उद्यमों के वर्गीकरण के लिए नई परिभाषा के अनुसार यह उद्यम प्रदान किया जाएगा। निम्नलिखित मानदंडों के आधार पर एक सूक्ष्म, लघु या मध्यम उद्यम के रूप में वर्गीकृत किया जाना चाहिए: – (i) एक सूक्ष्म उद्यम, जहां संयंत्र और मशीनरी या उपकरण में निवेश एक करोड़ रुपये से अधिक नहीं होता है और टर्नओवर पांच करोड से अधिक नहीं होता है; (ii) एक छोटा उद्यम, जहां संयंत्र और मशीनरी या उपकरण में निवेश दस करोड़ रुपये से अधिक नहीं होता है और कारोबार पचास करोड़ रुपये से अधिक नहीं होता है; और (iii) एक मध्यम उद्यम, जहां संयंत्र और मशीनरी या उपकरण में निवेश पचास करोड़ रुपये से अधिक नहीं है और टर्नओवर दो सौ पचास करोड़ रुपये से अधिक नहीं है। इसमे निर्यात टर्नओवर को नही गिना जाएगा

कोई भी व्यक्ति, जो सूक्ष्म, लघु या मध्यम उद्यम स्थापित करने का इरादा रखता है, वह दस्तावेज़, कागजात, प्रमाण पत्र या प्रमाण अपलोड करने की आवश्यकता के साथ स्व-घोषणा के आधार पर, उदयम पंजीकरण पोर्टल में उदयम पंजीकरण ऑनलाइन दर्ज कर सकता है। शाह ने कहा कि एक ई-प्रमाणपत्र, पंजीकरण प्रक्रिया पूरी होने पर “उद्योग पंजीकरण प्रमाणपत्र” जारी किया जाएगा।

नई परिभाषा के अनुसार निवेश और टर्नओवर का एक समग्र मानदंड किसी उद्यम के सूक्ष्म, लघु या मध्यम के रूप में वर्गीकरण के लिए लागू होगा और यदि कोई उद्यम निवेश या टर्नओवर के दो मानदंडों में से किसी एक में अपनी वर्तमान श्रेणी के लिए निर्दिष्ट सीमा को पार करता है, तो उस श्रेणी से उसे अगली उच्च श्रेणी में रखा जाएगा, लेकिन किसी भी उद्यम को निचली श्रेणी में नहीं स्थानांतरित किया जाएगा, जब तक कि वह अपनी वर्तमान श्रेणी के लिए निर्दिष्ट सीमा सीमा से नीचे नहीं जाता है और साथ ही साथ टर्नओवर के दोनों मानदंडों में, शाह ने स्पष्ट किया । सामान और सेवा कर पहचान संख्या (GSTIN) वाली सभी इकाइयाँ, जो एक ही स्थायी खाता संख्या (PAN) के अंतर्गत सूचीबद्ध हैं, को सामूहिक रूप से एक उद्यम के रूप में माना जाएगा और ऐसी सभी संस्थाओं के लिए टर्नओवर और निवेश के आंकड़ों को एक साथ और केवल समग्र मूल्यों के साथ देखा जाएगा। सूक्ष्म, लघु या मध्यम उद्यम के रूप में श्रेणी तय करने के लिए विचार किया जाए।

नए उद्यम के मामले में, जहां कोई पूर्व आईटीआर उपलब्ध नहीं है, निवेश एंटरप्राइज़ के प्रमोटर की स्व-घोषणा पर आधारित होगा और इस तरह की छूट वित्तीय वर्ष के 31 मार्च के बाद समाप्त हो जाएगी जिसमें यह अपनी पहली आईटीआर फाइल करता है। कोई भी शिकायत के मामले एमएसएमई मंत्रालय के चैंपियन पोर्टल पर मेल करके हल किया जा सकता है। उन्होंने एमएसएमई इकाई द्वारा प्राप्त किए जा सकने वाले लाभों के बारे में भी अवगत कराया.उन्होंने वेबिनार में प्रतिभागियों के प्रश्नों को भी हल किया.सीए गणेश शिलवंत,अध्यक्ष ने स्वागत उद्बोधन दिया और सीए रूपाली बोथरा,सचिव ने धन्यवाद प्रस्ताव दिया.इस वेबिनार में भारी मात्रा में प्रतिभागियों ने भाग लिया.