Published On : Thu, May 6th, 2021

गोंदिया भेजे गए एनकाउंटर स्पेशलिस्ट दया नायक

गोंदिया : एनकाउंटर स्पेशलिस्ट इंस्पेक्टर दया नायक का तबादला गोंदिया कर दिया गया है। आतंकवाद निरोधक दस्ते की जुहू यूनिट में तैनात दया नायक का तबादला गोंदिया जिला जाति प्रमाणपत्र समिति में तबादला किया जा रहा है। यानी नायक का सिर्फ तबादला ही नहीं किया गया बल्कि उनको साइड पोस्टिंग भी दे दी गई। एक दूसरे विवादित पुलिस इंसपेक्टर राजकुमार कोथमिरे को ठाणे से गडचिरोली पुलिस उपमहानिरीक्षक कार्यालय में भेजा गया है। सचिन वाझे मामले के बाद मुंबई की अपराध शाखा और दूसरी जगहों पर सालों से तैनात पुलिस अधिकारियों का लगातार तबादला किया जा रहा है।

80 एनकाउंटर कर चुके नायक प्रदीप शर्मा के एनकाउंटर स्क्वाड में थे। नायक को अंडरवर्ल्ड से रिश्ते और भ्रष्टाचार के आरोप लगने के बाद निलंबित कर दिया गया था। भ्रष्टाचार निरोधक ब्यूरो ने नायक को गिरफ्तार भी किया था। लेकिन बाद में अदालत से बरी होने के बाद उन्हें फिर 2012 में बहाल कर दिया गया। बहाली के बाद दो साल बाद नायक का तबादला नागपुर में किया गया था लेकिन वे वहां नहीं गए। जिसके चलते उन्हें 2014 में फिर निलंबित कर दिया गया।


बाद में 2016 में फिर बहाल कर नायक को पहले मुंबई के एक पुलिस स्टेशन में और बाद में एटीएस में तैनात कर दिया गया। लेकिन वाझे मामले में सरकार और मुंबई पुलिस की जिस तरह बदनामी हुई उसके बाद मुंबई और आसपास के इलाकों में कई सालों से तैनात पुलिसकर्मियों के तबादला शुरू हुआ। वाझे प्रकरण के बाद पिछले महीने मुंबई पुलिस की अपराध शाखा में तैनात 65 पुलिस अधिकारियों समेत 86 पुलिस अधिकारियों का एक ही दिन तबादला कर दिया गया था।

दो दिनों पहले ही मुंबई में लंबे समय से तैनात पुलिस अधिकारियों नंदकुमार गोपाले, सुधीर दलवी, सचिन कदम, केदारी पवार और ठाणे में तैनात नितिन ठाकरे का मुंबई से दूर तबादला कर दिया गया था। गोपाले को जालना पुलिस ट्रेनिंग सेंटर, पवार को जलगांव, कदम को औरंगाबाद और ठाकरे को नंदुरबार भेजा गया है। इससे पहले आर्थिक अपराध शाखा में 5 साल से ज्यादा समय बिता चुके 13 अधिकारियों को भी वहां से बाहर का रास्ता दिखा दिया गया था।