Published On : Tue, May 4th, 2021

राज्य की स्वास्थ्य सुविधा और भी मजबूत करने पर ज़ोर – मुख्यमंत्री

– मिशन ऑक्सिजन स्वावलंबन, कोविड केंद्रो की संख्या भी बढ़ायेंगे

पेटीएम फाउंडेशन के ऑक्सिजन, टीकाकरण के लिए सहयोग का स्वागत

मुंबई : – कोविड के संकट ने सभी को भी बहुत बढ़ा सबक सिखाया है। इसलिए राज्य की स्वास्थ्य व्यवस्था और भी मज़बूत करने के लिए ताकि इस तरह की अनेक संकटों का सामना कर सकेगी, इस तरह की स्वास्थ्य व्यवस्था के निर्माण के लिए ज़ोर दिया रहा है, यह मुख्यमंत्री श्री. उद्धव ठाकरे ने आज यहाँ पर कहा। पेटीएम फाऊंडेशन की ओर से राज्य में ऑक्सिजन निर्माण के प्रकल्प, ऑक्सिजन कॉन्स्ट्रेटर और टीकाकरण के लिए राज्य सरकार को सहयोग किया जाएगा, उसके मद्देनज़र वीडियो कॉन्फ्रेंस के द्वारा आयोजित बैठक में मुख्यमंत्री श्री. ठाकरे बोल रहे थे।

पेटीएम फाऊंडेशन ने खुद से आगे बढ़ते हुये सरकार की ओर सहयोग का हाथ बढ़ाया है, इस पर मुख्यंत्री ने ऐसे संकट के दिनों में राज्य और देश के आर्थिक चक्र को गति देने के लिए इस तरह के प्रयास महत्वपूर्ण साबित होंगे, यह सराहना भरे शब्द इस बैठक में कहें ।

बैठक में राज्य के मुख्य सचिव सीताराम कुंटे, मुख्यमंत्री के अतिरिक्त मुख्य सचिव आशिषकुमार सिंह, स्वास्थ्य विभाग के अतिरिक्त मुख्य सचिव डॉ. प्रदीप व्यास, चिकित्सा शिक्षा संचालक डॉ. तात्याराव लहाने, मुख्यमंत्री के प्रधान सचिव विकास खारगे, मुख्यमंत्री के सचिव आबासाहेब जऱ्हाड, चिकित्सा शिक्षा विभाग के सचिव सौरभ विजय और पेटीएम-फाऊंडेशन के विजय शेखर-शर्मा, सोनिया धवन, राजेंद्र गुल्हर आदि उपस्थित थे।

मुख्यमंत्री श्री. ठाकरे ने कहा कि विकास होता रहेगा लेकिन लोगों जान बचनी चाहिए, तभी सही मायने में विकास का अर्थ है। हम विकास कहकर जिसके पीछे दौड़ रहे रहे थे, उस विकास ने हमें मुंह दिखाने के लिए जगह नहीं रखी है। अब हमें ऑक्सिजन के पीछे दौड़ना पड़ रहा है। कोरोना ने हमें सबक सिखाया है, इसलिए आगामी चुनौतियों का सामना करने की तैयारी हमें अभी से ही करनी होगी और हमने तैयारी शुरू भी की है। पहली लहर में हमने बहुत-सी सुविधाएं बढ़ाई, लेकिन अब वहीं सुविधाएं कम पड़ने लगी है। इसलिए अब टीकाकरण शुरू होने के बाद भी स्वास्थ्य सुविधाओं को बढ़ाने पर ज़ोर दिया जा रहा है। अब जुलाई के बाद बारिश की वजह से भी अनेक संक्रमित बीमारी का फैलाव होता है। उनका सामना करने के साथ-साथ कोविड की तिसरी, चौथी और ऐसी भी बहुत सी लहरों का सामना करने के लिए, लोगों को समय पर उपचार मिले, इसके लिए ज्यादा से ज्यादा सुविधाएं निर्माण करने पर ज़ोर दिया जा रहा है और दिया जाएगा।

ऑक्सिजन अब यह एक तरह से दवाई साबित हो रही है, इस बात का जिक्र करते हुये मुख्यमंत्री ने कहा कि राज्य का ऑक्सिजन निर्माण पंद्रह सौं मीट्रिक टन तक बढ़ाने का नियोजन है। साथ ही जो भी आवश्यक है, वह भी अधिक मात्रा में उपलब्ध हो सकेगा, इसके लिए प्रयास जारी है। इसमें अस्थायी और अधिक समय तक तक चले ऐसा नियोजन है। बेड्स की संख्या एवं कोविड केंद्रों की संख्या भी बढ़ाई जाएगी।

पेटीएम फाऊंडेशन ने ऑक्सिजन निर्मिती, ऑक्सिजन कॉन्स्ट्रेटर और टीककरण में टीकाकरण के लिए सरकारी यंत्रणा को सहयोग की, टीका उपलब्ध कराने के लिए आर्थिक सहयोग की भी तैयारी दर्शाई है। उनके इन सभी सहयोग और आगे आने पर मुख्यमंत्री ने उनका स्वागत किया है।

इस बैठक में हुई चर्चा में मुख्य सचिव श्री. कुंटे ने बताया कि राज्य में ऑक्सीज़न की उपलब्धता को लेकर और आत्मनिर्भरता को लेकर ‘मिशन ऑक्सिजन स्वावलंबन’ चलाने के लिए विविध प्रयास किए जा रहे है। चर्चा में स्वास्थ्य विभाग के अतिरिक्त मुख्य सचिव डॉ. व्यास एवं आदि ने भी भाग लिया।

देश के लिए मार्गदर्शक है मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे के प्रयास
पेटीएम फाउंडेशन के विजय शेखर-शर्मा ने मुख्यमंत्री श्री. ठाकरे के कोविड उपाययोजनाओं के लिए निरंतर प्रयास और की जा रही पहल की सराहना की। कोविड की लहर को रोकने के लिए मास्क के उपयोग के साथ, टीकाकरण के माध्यम से किए जा रहे उपाययोजनाओं में महाराष्ट्र ने और एक कदम बढ़ाया है। मुख्यमंत्री श्री. ठाकरे के दुरदृष्टिकोण से जारी प्रयास देश के लिए मार्गदर्शक होने की बात उन्होंने कहीं।

पेटीएम फाऊंडेशन की पहल..
पेटीएम फाऊंडेशन ने ऑक्सिजन निर्मिती-आपूर्ति, टीकाकरण और टीके की उपलब्धता के लिए निधि इन सभी के लिए आवश्यक उस तरह का योगदान देने की बात कहीं। राज्य में ऑक्सिजन निर्माण प्रकल्प के निर्माण में एवं टीकाकरण के लिए मुंबई-पुणे की बड़ी कंपनियों का कार्यालयीन परिसर एवं मानव संसाधन उपलब्ध कराने की तैयारी के साथ-साथ टीके के लिए आवश्यक अर्थसहायता भी सामाजिक सरोकार निधि से एवं विविध तरह से आर्थिक भार उठाने की तैयारी दर्शाई है।