Published On : Fri, Feb 20th, 2015

सावनेर : स्वाईन फ्लु का झोलझाल, झोलाछाप डाक्टरों की चांदी !


सवांददाता / किशोर ढूंढेले 

सावनेर (नागपुर)। विगत एक सप्ताह पूर्व चली केजरीवाल की धोबी पछाड़ भुलाकर संपुर्ण भारत भर स्वाईन फ्लु की भरमार है. इस स्वाईन फ्लु को जानलेवा बिमारी बताकर झोलाछाप डाक्टरों समेत अन्य डाक्टर विशेषतः ग्रामीण क्षेत्रों में प्रेस विज्ञप्ति के माध्यम से आम जनता को गुमराह कर चांदी काटने का मानस बनाये बैठे है. जिससे जनता में दहशत का वातावरण निर्माण हो रहा है. स्वाईन फ्लु जैसी बिमारी को ऐसे प्रस्तुत किया जा रहा है मानो यह कोई भयानक जानलेवा बिमारी है. इसकी की आड़ में डाक्टर मरीजों से मोटी फ़ीस वसूल रहे है. वहीं अंग्रेजी दवाओं का विदेशी कंपनियों ने बाजार सजा दिया है. नागपुर जिले में गिनती के लोग इस बिमारी की चपेट में आने की जानकारी है. लेकिन कुछ प्रेस विज्ञप्ति वीर इस बीमारी को ऐसे प्रस्तुत कर रहे है, मानों घर-घर यह बिमारी है और महामारी का रूप ले रखा है.

मामूली बुखार, सर्दी, खासी, हाथपैर दुखना यह आम बात है. लेकिन डाक्टर रोगीयों की जांच में धान भरकर इलाज के नाम पर खून की जांच, पैथोलाजी की जांच के नाम पर खुले आम लूट मचा रहे है. इस कार्य के लिए डाक्टर एवं झोलाछापो ने बाकायदा दलालों की नियुक्ति की है. इन्हे कमीशन बेसिस पर रखकर एक महीने से लेकर तीन महीने तक का पैकेज दिया जाता है. इलाज उपलब्ध करा देने का छलावा कर हलकी सर्दी बुखार के रोगियों का गला काटने का गोरख धंदा ग्रामीण क्षेत्रों में जमकर फल फूल रहा है. वैद्यों से लेकर तज्ञ तक की मिली भगत से सभी की मौज हो रही है. गरीब जनता इस बिमारी के नाम पर पिसी जा रही है.

स्वाईन फ्लू से डरने की बात नही – डा. हिवरकर
ग्रामीण प्रक्षिक्षण आरोग्य केंद्र सावनेर के सहयोगी प्राध्यापक डा. हिवरकर से इस जानलेवा बिमारी के संबंध में चर्चा करने पर उन्होंने बताया कि फिलहाल सावनेर तालुका आरोग्य केंद्र में स्वाईन फ्लु के एक भी रोगी की शिनाख्त नहीं हुई है. हमने और प्रशासन ने इस बिमारी से निपटने की पूरी तैयारी कर रखी है. मास्क, स्वाईन फ्लु प्रतिबंधक दवाईयां, जांच के साथ ही ऐसा कोई रोगी पाया जाता है. तो उसे मेयो, मेडिकल रवाना करने हेतु रुग्णवाहिका तैनात है. रोगियों से निवेदन करते हुए कहा झूठे प्रचार और वादों के चक्कर में ना पडकर सीधे ग्रामीण स्वास्थ केंद्रों पर अपना इलाज कराये तथा हमारी पूरी यंत्रणा तालुका पर नज़ारे गडाये है. अगर ऐसा रोगी मिलता है तो उसे तुरंत उचित इलाज उपलब्ध करा देना हमारा परम कर्तव्य है. ऐसा विचार व्यक्त कर नागरिकों को सतर्क रहने की अपील की गई है.

स्वाईन फ्लु बिमारी के नाम पर अजुल-फजुल पत्रको द्वारा नागरिकों में दहशत निर्माण कर दिशा भूल कर मोटी चांदी काटने की फ़िराक में बैठे विज्ञप्ति प्रकाशित करने वाले निजी वैद्यकीय व्यावसायिकों  के खिलाफ अधिनियम की धारा के अनुसार कार्रवाई करने की मांग समाज सेवी किशोर ढूंढेले ने की है.

Swine_Flu_India