Published On : Sat, Aug 7th, 2021

नागपुर में डेंगू का कहर, जिप स्थायी समिति बैठक में उठा मामला

नागपुर. जिले में डेंगू कहर ढा रहा है. जिला परिषद स्थायी समिति की ऑनलाइन सभा में यह मुद्दा खुद जिप अध्यक्ष रश्मि बर्वे ने उठाते हुए स्वास्थ्य विभाग को नियंत्रण के लिए सभी उपाय योजना तत्काल करने का निर्देश दिया. उन्होंने कहा कि अब तक जिले में 293 मरीज सामने आए हैं लेकिन यह सरकारी अस्पतालों के आंकड़े हैं. निजी अस्पतालों में उपचार कराने वालों की संख्या पर ध्यान दिया जाए तो लगभग 500 डेंगू के मरीज होंगे. उन्होंने गांवों में गड्ढों को भरने, पानी जमा नहीं होने देने के साथ ही फॉगिंग करने का निर्देश दिया. बैठक में सभी विषय समिति सभापति, समिति सदस्य, अतिरिक्त कार्यकारी अधिकारी डॉ. कमलकिशोर फुटाणे व सभी विभाग प्रमुख शामिल हुए.

घोटाला भी गूंजा
लघु सिंचन व बांधकाम विभाग के साथ ही जलापूर्ति विभाग में टेंडरों के अनामत रकम का घोटाला भी गूंजा. सदस्यों का कहना था प्रकरण में लघु सिंचन व बांधकाम विभाग से तो एफआईआर की प्रति जांच समिति को मिल गई है लेकिन जलापूर्ति विभाग से प्रति नहीं दी गई है. इस पर अध्यक्ष ने विभाग के कार्यकारी अभियंता को 2 दिनों के भीतर कागजात समिति के समक्ष सादर करने का निर्देश दिया. उन्होंने चेतावनी दी कि दोषियों को बचाने का प्रयास करने वाले पर कड़ी कार्रवाई की जाएगी.

हर 3 महीने में छात्रों की रिपोर्ट दें
अध्यक्ष ने शिक्षा विभाग को निर्देश दिये हैं कि 8वीं से 12वीं क्लास के विद्यार्थियों की शिक्षा प्रगति रिपोर्ट हर 3 महीने में सादर करें. उन्होंने कहा कि कोरोना के चलते मार्च 2020 में शालाएं खुली ही नहीं. ऑनलाइन पढ़ाई के चलते विद्यार्थियों की गुणवत्ता बढ़ी या नहीं इसकी रिपोर्ट ही सादर नहीं हुई. अब ग्रामीण भागों में 8वीं से 12 वीं की कक्षाएं शुरू हो गई हैं और जल्द ही 5वीं से 7वीं की कक्षाएं भी शुरू हो सकती हैं. इसलिए अब हर तीन महीनों में विद्यार्थियों की प्रगति रिपोर्ट सादर किया जाए.

बाबा जुमदेव को ‘महाराष्ट्र भूषण पुरस्कार’ का प्रस्ताव
सभा में मानव धर्म के संस्थापक बाबा जुमदेव को महाराष्ट्र भूषण पुरस्कार देने की मांग का प्रस्ताव पारित करने के लिए कृषि सभापति तापेश्वर वैद्य ने रखा. उन्होंने अंधविश्वास, अन्याय, अत्याचार नष्ट करने के लिए कार्य किया. प्रस्ताव को एकमत से पारित किया गया, जिसे राज्य सरकार को भेजने का निर्देश अध्यक्ष ने संबंधित अधिकारी को दिया.