Published On : Fri, Sep 19th, 2014

लाखांदुर : रोज एक मरीज दम तोड़ रहा है डेंगू से


तालुका में डेंगू फैला, सैकड़ों मरीज जूझ रहे

लाखांदुर (भंडारा)। तालुका में डेंगू के सैकड़ों मरीज जिंदगी और मौत से मुकाबला कर रहे हैं. बताया जाता है कि तालुका में रोज एक मरीज की मृत्यु हो रही है. नागपुर के एक रुग्णालय में आज शुक्रवार को पति डेंगू से जूझ रहा है तो पत्नी की कल 18 सितंबर की रात 8 बजे मौत हो गई. मृतक पत्नी का नाम मनाबाई नामदेव देसाई (50) बताया गया है जबकि पति नामदेव देसाई (60) की हालत खराब है. दोनों का नागपुर के मेयो अस्पताल में इलाज चल रहा था.

स्कूली बच्चों की संख्या अधिक
तालुका में डेंगू बुरी तरह फैल गया है. इसमें स्कूली बच्चों की संख्या अधिक है. रोज स्थानीय ग्रामीण रुग्णालय में डेंगू के मरीज भरती हो रहे हैं. मगर उचित निदान नहीं होने और डेंगू की उचित जांच नहीं हो पाने के कारण मरीज डेंगू के बलि चढ़ रहे हैं. इन मरीजों को जिला सामान्य रुग्णालय और वहां से नागपुर भेजा जा रहा है.

दवाखानों में पैर धरने की जगह नहीं
जिले में डेंगू, मलेरिया के मरीजों की संख्या बढ़ने से निजी और सरकारी दवाखानों में पैर धरने की जगह नहीं है. अनेक गांवों में डेंगू के मरीजों की मौत होने से भय का वातावरण फैल गया है. ग्राम स्तर पर मच्छर-मार दवा का छिड़काव नहीं किए जाने के कारण मच्छरों की संख्या में भारी बढ़ोतरी हुई है.

दिघोरी (ना) में महिला ने डेंगू से दम तोड़ा
लाखनी से कुछ दूरी पर स्थित दिघोरी (ना) की 35 वर्षीय हेमलता योगीराज हलमारे की 17 सितंबर इलाज के दौरान नागपुर में मौत हो गई. उसे मलेरिया-डेंगू हुआ था. कल शोकाकुल वातावरण में उसका अंतिम संस्कार कर दिया गया. हेमलता अपने पीछे पति, दो बेटियां और एक बेटा सहित भरापूरा परिवार छोड़ गई हैं.

Representational Pic

Representational Pic