Published On : Fri, Jan 26th, 2018

‘डिफाल्ट’ 450 गवाह ‘ब्लैक लिस्टेड’ – एस पी शैलेश बलकवडे


नागपुर: नागपुर ग्रामीण क्षेत्र में अपराधों पर नियंत्रण करने व शिक्षा का प्रमाण बढ़ाने के लिए प्रयास शुरू है। नागरिकों का पुलिस पर विश्वास कायम हो, इसके लिए ग्रामीण पुलिस प्रयासरत है। ग्रामीण क्षेत्र में 450 गवाहों को ब्लैक लिस्टेड कर दिया गया है, जो गवाही देने के बाद किसी न किसी कारण मुकर गए थे। अपराधियों के खिलाफ कार्रवाई करने के िलए अब प्रत्येक गांव में ग्राम रक्षा दल के अंतर्गत 5 सदस्यों का सहयोग लिया जाएगा। यह जानकारी गुरुवार को पुलिस अधीक्षक शैलेश बलकवडे ने सिविल लाइंस स्थित पुलिस अधीक्षक कार्यालय में आयोजित पत्र परिषद में दी।

अपराधियों पर पैनी नजर
बलकवडे ने बताया कि ग्रामीण क्षेत्रों में बढ़ते अपराध, दुर्घटनाओं, महिला अत्याचाराें की घटना, अवैध शराब बिक्री सहित अन्य आपराधिक मामलों पर नियंत्रण लगाने के प्रयास शुरू है। इसके लिए प्रत्येक थाने में विशेष जांच दस्ते बनाए गए हैं। अपराधियों को अधिक से अधिक सजा कैसे दिलाई जाए, इस पर ग्रामीण पुलिस का मंथन शुरू है। विशेष जांच दस्ते को टारगेट दिया गया है। उन्होंने कहा िक ग्रामीण पुलिस मोबाइल गुम होने की शिकायत पर चोरी का मामला दर्ज कर रही है। छोटे अपराधियों पर पुलिस की पैनी नजर है। महिलाओं पर होने वाले अत्याचारों को रोकने के िलए महिला विशेष दल तैयार िकया गया है। महिला अत्याचार मामले में करीबी व्यक्ति ही आरोपी के रूप में जांच में सामने आता है। इसके पहले कई महिलाएं लोकलाज के डर से मामले की शिकायत करने थाने नहीं पहुंचती थीं। अब महिला विशेष दल की महिला अधिकारी, कर्मचारी प्रत्येक स्कूल, कॉलेज को भेंट देकर विद्यार्थियों से समय-समय पर संभाषण कर उनका मार्गदर्शन िकया जाता है। स्कूल और कॉलेज के अंदर रखी शिकायत पेटियों को लेकर भी गंभीरता बरती जा रही है। पुलिस शिकायत पेटियों की जांच करती है। इस अवसर पर बैंक अधिकारी गगणदीप बुधराज, बैंक प्रबंधक रवींद्र कपूर, अपर पुलिस अधीक्षक मोनिका राऊत, कैलाश गावंडे, एएसपी रामटेक के लोहित मतानी आदि उपस्थित थे।


पुलिस कर्मियों को लैपटॉप वितरित
ग्रामीण पुलिस अधीक्षक कार्यालय में पत्रपरिषद के बाद पुलिस कर्मियों को लैपटॉप वितरित िकए गए। इस दौरान कर्मचारियों का ई-सेवा अभिलेख एप तैयार किया गया है। नागरिकों की सुविधा के लिए पुलिस वेरिफिकेशन 30 दिन के बदले अब 7 दिन में किया जाएगा। पुलिस कर्मियों को एक बैंक के सहयोग से 32 हजार रुपए में लैपटॉप उपलब्ध कराया गया। बीट पेट्रोलिंग को टेक्नोलॉजी के अंतर्गत क्यूआर कोड बेस्ड मोबाइल वेरिफिकेशन एप से जोड़ने की जानकारी भी बलकावडे ने दी। पुलिस के कामकाज में पारदर्शिता लाने के िलए प्रत्येक थाने को सीसीटीवी कैमरे को एसपी ऑफिस से जोड़ा गया है। कर्मचारियों को ड्यूटी लगाने के लिए ड्यूटी मैनेजमेंट सिस्टम सॉप्टवेयर का उपयोग िकया जा रहा है। एप तैयार करने के िलए साइबर सेल के पुलिस निरीक्षक संजय पाटील, एपीआई अरविंद सराफ, अजय तिवारी, चेतन राऊत ने सहयोग िकया। लैपटॉप वितरण कार्यक्रम का संचालन ग्रामीण अपराध शाखा के प्रमुख संजय पुरंदरे ने किया


अवैध शराब विक्रेताओं पर कड़ी कार्रवाई

अवैध शराब अड्डों के खिलाफ कड़ी कार्रवाई की जाएगी। वर्ष 2016 में 2 करोड़ 11 लाख का माल जब्त िकया गया। वर्ष 2017 में यह आंकड़ा 6 करोड़ 11 लाख तक पहुंच गया। वर्ष 2016 में ग्रामीण क्षेत्र में 45 हत्याएं हुई थीं। वर्ष 2017 में यह संख्या 41 थी। चोरी की घटना पर रोकथाम के लिए पुलिस वाहनों पर जीपीएस सिस्टम लगाया गया है। इस बार वाहन कानून के अंतर्गत 54707 मामले दर्ज िकए गए। इस दौरान 20 करोड़ 4 लाख 44 हजार रुपए का जुर्माना वसूल िकया गया।

अवैध सवारी वाहनों पर कार्रवाई की जा रही है। ग्रामीण पुलिस ने सड़क दुर्घटना में 28 लोगों की जान बचाई।