Published On : Sat, Feb 23rd, 2019

CIA पर क्राइम ब्रांच का छापा

Advertisement

नागपुर: शहर पुलिस की क्राइम ब्रांच ने शुक्रवार को अमेरिका की खुफिया एजेंसी यानि सीआईए के नाम से धंतोली थानातंर्गत समर्थनगर चलाई जा रही फर्जी जांच एजेंसी पर छापामार कार्रवाई की. हालांकि यहां सीआईए का पूरा नाम सेंट्रल क्राइम इन्वेस्टिगेशन एजेंसी है ना कि अमेरिका की सेंट्रल इंटेलिजेंस एजेंसी. दोपहर 1 बजे से शुरू हुई कार्रवाई में यवतमाल निवासी नरेश सुधाकर पालरपवार (४७) को हिरासत में लिया गया. हालांकि देर रात तक मामला दर्ज नहीं किया था.

सूत्रों से मिली जानकारी के अनुसार, नरेश ने समर्थनगर में की एक इमारत में 6000 रुपये महीने के किराये से एक फ्लैट में सेंट्रल इन्वेस्टिगेशन एजेंसी के नाम से आफिस शुरू किया. एजेंसी को महाराष्ट्र सरकार से संलग्न बताया. 14 फरवरी से ही शुरू हुए इस कार्यालय में नरेश ने पुलिस केसों की जांच के मामले भी स्वीकारने शुरू कर दिये थे. खास बात है कि शहर पुलिस को ऐसी किसी जांच एजेंसी की भनक भी नहीं थी.

Advertisement
Advertisement

पुलिस भी रह गई हैरान
गुप्त सूत्रों से जानकारी मिलते ही जब धंतोली पुलिस और क्राइम ब्रांच की टीम ने एजेंसी के कार्यालय पर रेड की तो वहां का नजारा देखकर सभी हैरान हो गये. नरेश ने कार्यालय को पूरी तहर से पुलिस माहौल में ढाल रखा था. यहां बाकायदा वॉकी-टॉकी भी रखे ताकि लोगों को आसानी से यकीन आ जाये. वहीं, रिसेप्सशनिस्ट और अन्य कामों के लिए कुछ लड़कियों को भी नौकरी पर रख लिया था.

लोगों को अपनी फर्जी जांच एजेंसी पर किसी प्रकार का कोई शक ना हो, इसलिए के अपनी कार (एमएच29/एडी4696) पर बाकायदा सेंट्रल इन्वेस्टिगेशन एजेंसी के नाम के लोगों के साथ फ्लैग और प्लेट भी लगाई. पूछताछ में नरेश ने बताया कि एजेंसी का मुख्यालय उत्तरप्रदेश के गोंडा जिले में हैं जिसका मुख्य संचालक अजय प्रतापसिंह नामक व्यक्ति को बताया. नरेश ने पुलिस को बताया कि उसने अजय से ही एजेंसी के फ्रेंचाइजी ली है.

Advertisement

Advertisement
Advertisement
 

Advertisement
Advertisement
Advertisement
Advertisement
Advertisement