Published On : Wed, Mar 13th, 2019

बंद शटर के भीतर बनती है क्रिकेट सट्टे की रणनीति

हिसाब-किताब व लेन-देन का मुख्य केंद्र

नागपुर: संतरा नगरी को क्रिकेट की दुनिया के लोग सट्टों की राजधानी भी कहते हैं. वर्तमान में इस व्यवसाय में शह से जुड़े कई नाम हैं जो प्रशासन के साथ आपसी समझौते से बेख़ौफ़ क्रिकेट सट्टा का व्यवसाय चला रहे हैं. इन सट्टेबाज़ों एक का निवास छापरु नगर चौक के पास है, यह जिस बिल्डिंग में रहता है, उसी के तल मंजिल में एक पान शॉप है.

विश्वसनीय सूत्रों की मानें तो यह पिछले एक दशक से सेंटल एवेन्यू मार्ग पर स्थित होटल आमीर के ठीक सामने सट्टेबाज व्यवसायी रणनीति बनाते और उसका हिसाब-किताब व लेन-देन करते देखा गया है. परिसर में एक कांच की केबिन है, यह अक्सर बंद रहती है, लेकिन अंदर जमघट से लेन देन का व्यवहार चलता रहता है.

यह कार्यालय रोज रात को अपने शबाब पर रहता है. लगभग रोजाना यहां ‘ वह’ जरीपटका, महल परिसर के लगभग दर्जन भर इस व्यवसायी से जुड़े लोग देखे जा सकते हैं.

उल्लेखनीय यह है कि जिस दिन दुनिया में कहीं भी क्रिकेट का मैच होता है, उस दिन सट्टेबाज़ों की टोली अपने टाउनशिप या फिर दूसरी जगह चले जाते हैं. अन्यत्र जगहों के क्रिकेट सट्टे के सूत्रधार है, जबकि सम्बंधित महकमों को सब कुछ पता होता है. इस टेसी की होली के दौरान दूसरे राज्य में टूर पर जाने की तैयारी चल रही है जिसमें सरकारी महकमे के मुलाजिमों के शामिल होने की खबर मिली है.