Published On : Tue, Sep 7th, 2021

अनुकंपा स्कीम में भ्रष्टाचार, शिक्षक संघ ने लगाया आरोप

वाडी: कोरोना महामारी से जिन शिक्षकों और शिक्षण विभाग के कर्मचारियों की मौत हुई है, उन सभी शिक्षकों और कर्मचारियों के वारिसों को अनुकंपा स्कीम के आधार पर नौकरी दिलाने की मान करते हुए ‘खाजगी प्राथमिक शिक्षक संघ’ ने शिक्षक दिवस के अवसर पर पीड़ित परिवार के सदस्यों के साथ नागपुर के संविधान चौक पर धरना दिया।

अनुकंपा स्कीम के अंतर्गत पात्र परिवारों के लिए निजी प्राथमिक, माध्यमिक और उच्च माध्यमिक विद्यालयों में नागपुर जिले से 73, भंडारा से 16, गोंदिया से 11, वर्धा से 13, चंद्रपुर से 15, गढ़चिरोली से 4 परिवार ही पात्र हैं।

इस अन्याय के खिलाफ खाजगी प्राथमिक शिक्षक संघ के अध्यक्ष प्रमोद रेवतकर के नेतृत्व में विरोध प्रदर्शन किया गया। सरकार ने अनुकंपा स्कीम के अंतर्गत नागरिकों को नौकरी दिलाने का निर्णय लिया लेकिन शिक्षा विभाग के वरिष्ठ अधिकारीयों में इस स्कीम के क्रियान्वयन की मानसिकता नहीं दिख रही है। शिक्षक संघ ने शिक्षा आयुक्त विशाल सोलंकी को एक ज्ञापन सौंपकर शिक्षक दिवस पर पीड़ित परिजनों के साथ मोर्चा आंदोलन आयोजित करने की चेतावनी दी थी।

उस ज्ञापन को संज्ञान में लेते हुए उप निदेशक शिक्षा डॉ. वैशाली जामदार ने 1 सितंबर को बैठक बुलाई थी। आंदोलन के दौरान प्रमोद रेवतकर, विजय नंदनवार, लोकपाल चापले, ज्ञानेश्वर वाघ, संजय बोरगांवकर, रहमतुल्लाह खान, तेजराज राजुरकर एवं कई अन्य शिक्षक उपस्थित थे।