Published On : Sat, Jun 10th, 2017

दूषित पानी का जिले में हो रहा सदुपयोग, पर खुले में शौच है शर्मनाक


नागपुर: नागपुर जिले से छिंदवाड़ा मार्ग गुजरता है, जिले के सावनेर तहसील अंतर्गत पाटनसावंगी ग्राम काफी संपन्न है. इस गांव में सबकुछ है फिर भी सैकड़ों नागरिक खुले में शौच के आदी है. गौरतलब है की, यह गांव स्थानीय विधायक सुनील केदार का है, वे अक्सर इस गांव में विराम-बैठक-चर्चा आदि करते देखे जा सकते है.

इस ग्राम से लगकर एक नदी बहती है.नदी का पानी गर्मियों में एकदम सुख जाता है. नदी किनारे वर्षो से दर्जनों ईंट भट्टी है. ग्राम के सूत्रों के अनुसार गांव व ईंट भट्टी वाले सुखी नदी के बीच हर साल गर्मी में पूर्व बड़ा गड्ढा खोद देते है,वैसे एक ही बार खोदा गया ,हर साल सिर्फ सफाई कर लेते है.गांव वाले अपने दूषित पानी को इस गड्ढे में छोड़ते है.और इस दूषित पानी का सदुपयोग ईंट भट्टी वाले व आसपास के खेती वाले करते है.इस तरह नागपुर के भीषण गर्मी में भी खेती सह ईंटो का व्यवसाय सामान्यतः फलफूल रहा है.

विडंबना यह है कि बारिश के दिनों में उक्त नदी अपने शबाब पर होती है. हालाँकि काफी ऊंचा व चौड़ा न होने के कारण लगातार बारिश होने से नदी पर बना पुल डूब जाता है व आवाजाही पानी घटने तक बंद हो जाती है.

स्थानीय किसानों सह रहवासियों ने उक्त विधायक सह सरकार से मांग की है कि गांव से गुजरने वालों की संख्या रोजाना हज़ारों में है, इस गांव के नागरिक सड़क किनारे रोजाना सुबह-शाम शौच करते है,यह पूर्णतः बंद करवाई जाये और नदी पर नया पुल बनाया जाये जो की खासा चौड़ा और ऊंचा हो.