Published On : Sat, Nov 23rd, 2019

गांधी परिवार की एसपीजी सुरक्षा हटाने के विरोध में कांग्रेस का प्रदर्शन

डॉ. बाबासाहेब आंबेडकर व पेरियार रामास्वामी पर अभद्र टिप्पणी करने के विरोध में कांग्रेस द्वारा तीव्र निषेध

उत्तर नागपुर के इंदौरा चौक पर उत्तर नागपुर कांग्रेस की ओर से माननीय आमदार डॉ. नितीन राऊत इनके मार्गदर्शन में कांग्रेस पार्टी के कार्यकर्ताओं ने गांधी परिवार की एसपीजी सुरक्षा हटाए जाने के खिलाफ विरोध प्रदर्शन किया.

प्रदर्शन के दौरान कार्यकर्ताओं ने अखिल भारतीय कांग्रेस सेवादल के संगठन कृष्ण कुमार पांडे, युवक कांग्रेस के प्रदेश उपाध्यक्ष कुणाल राऊत, ठाकुर जगियासी, सुरेश जगियासी, सुरेश पाटिल, परसराम मानवटकर के नेतृत्व में नारेबाजी करते हुए नरेंद्र मोदी, अमित शाह और रामदेव बाबा इनके चेहरे पर कालिख पोतकर पुतला फूंका और कार्यकर्ताओं द्वारा तीव्र नारेबाजी करते हुए इंदौरा चौक पर चक्का जाम किया गया.

कार्यकर्ताओं का कहना था भाजपा सरकार जब से सत्ता में आई है तब से देश में अराजकता, बेरोजगारी, महिलाओं पर अन्याय, अत्याचार और महंगाई बढ़ी है. सरकार इस तरफ ध्यान न देते हुए लोगों का ध्यान भटकाने का कार्य कर रही है.

जिस गांधी परिवार के लोगों ने देश के लिए अपनी जान निछावर कि आज उसी परिवार के लोगों की एसपीजी सुरक्षा हटा दी गई है. उधर ढोंगी रामदेव बाबा संविधान निर्माता भारत रत्न डॉ. बाबासाहेब आंबेडकर व समाज सुधारक पेरियार रामास्वामी के ऊपर अभद्र टिप्पणी देकर अपने ढोंगी पन का परिचय दिया है.

प्रदर्शन के दौरान सभी कार्यकर्ताओं ने कांग्रेस व गांधी परिवार की एसपीजी सुरक्षा वापस कर, रामदेव बाबा पर अनुसूचित जाति जन-जाति अत्याचार निरोधक कायदा अनुसार कठोर कार्यवाही की मांग की.

इस प्रदर्शन दौरान मुख्य रूप से दिपक खोबरागडे, फिलीप जयसवाल, दौलत कुगववानी, अजित सिंग, धीरज पांडे, सतीश पाली, नेहा राकेश निकोसे, बेबी गौरीकर, वैष्णवी भरद्वाज, नैना झाड़े, स्वर्णा चालरकुरे, राजेश लाडे, गौतम अंबादे, बंटी एलेग्जेंडर, महेंद्र बोरकर, प्रकार डोंगरे, जयंत जाबुडकर, बॉबी दहिवाले, जॉन जोसेफ, अजय वंजारी, सप्तश्री लांजेवर, जय रामटेके, मूलचंद मेहर, मुजम्मिल हुसैन, सचिन वासनिक, चेतन तरारे, शेख शाहनवाज, गोविंद गोरे, सोनू खोबरागड़े, पंकज सावरकर, राकेश इखार, राम यादव, दुर्गेश पांडे, संतोष खडसे, पलाश लिंगायत, विपुल महले, राकेश मेहर, पंकज नगरारे, अक्षय ढवळे, आर्दश शोरदे, राजेश बोदले, विजय बान्ते, राजेश कोहडे, नुरमोहम्मद बक्शी, प्रकाश डोगरे, प्रकाश नादगावे, शकर केशरवानी, संजय सहारे, सुरेन्द्र चव्हान, वंदना चाहंदे, ज्योति खोबरागड़े, अंशु खोबरागडे, कल्पना कटारे, अर्चना कापसे, शालिनी सरोदे, रश्मि सांगोड़े, माया नंदूरकर, आनंदी चापरे, इंदु गायकवाड, सुनंदा राउत, विजय शेंडे, गीता श्रीवास, इंदिरा इंगळे, कविता हीगंनकर, खतीजा अली, रंजना मेश्राम, विभा सहारे, प्रीति सहारे, सुजाता दरवाडे, चित्रा गणामोटे, पोणिमा बागङे, सीमा दरवाङे, सिंधु बोरकर, सरोज उके, संगीता ताङेकर, इंद्रजीत कोर, ज्योती सहारे, शारदा गौरखेङे, सरिका भौसारे, शारदा तरारे आदि पदाधिकारी कार्यकर्ता उपस्थित थे.