Published On : Mon, Jan 9th, 2017

कांग्रेस के शाहजहाँ शफात कामठी नगर परिषद के अध्यक्ष

Kamptee Nagar Parishad
नागपुर:
नागपुर जिले की सबसे बड़ी नगर परिषद के रुप में जानी जाने वाली कामठी नगर परिषद में कांग्रेस ने फिर सत्ता में वापसी की है। नगराध्यक्ष पद के प्रबल दावेदार कांग्रेस के शाहजहाँ शफात ने अपने करीबी प्रतिद्वंदी भारतीय जनता पार्टी और बहुजन रिपब्लिकन मंच के संयुक्त उम्मीदवार अजय कदम को कांटे के मुकाबले में 2429 मतों से पराजित किया। एक समय कांग्रेस के उम्मीदवार पाँच हजार से ज्यादा मतों से आगे थे लेकिन बाद में जीत का अंतर रोचक ढंग से कम होता गया। कांग्रेस के नगराध्यक्ष पद के उम्मीदवार को 16690 वोट मिले, जबकि अजय कदम को 14261 मत मिले।

32 में से 16 नगरसेवक पद जीतकर कांग्रेस ने कामठी नगर परिषद में परचम लहरा दिया है। कल तक एकतरफा जीत के दावे करने वाली भारतीय जनता पार्टी को यहाँ के मतदाताओं ने नकार दिया है और उसके सिर्फ 8 ही नगर सेवक इस बार नगर परिषद पहुँच पाए हैं। भाजपा के साथ मिलकर चुनाव लड़ रही बहुजन रिपब्लिकन मंच को महज दो सीट पर ही संतोष करना पड़ा है।

असदुद्दीन ओवैसी के ऑल इंडिया मजलिस-ए-इत्तेहादुल मुसलमीन यानी एआइएमआइएम का खाता भी कामठी नगर परिषद में खुल गया है। इस पार्टी के बैनर तले एक नगरसेवक को यहाँ की जनता ने चुना है।

महाराष्ट्र सरकार में भाजपा की साझीदार शिवसेना को कामठी नगर परिषद चुनाव में मुँह की खानी पड़ी है, उसका सिर्फ एक उम्मीदवार ही यहाँ जीत दर्ज कर पाया है। बहुजन समाज पार्टी और भारतीय रिपब्लिकन मंच के भी एक-एक उम्मीदवार को जनता ने चुनकर नगर परिषद में भेजा है।

चंद्रशेखर बावनकुले की प्रतिष्ठा को झटका

कामठी से भाजपा विधायक चंद्रशेखर बावनकुले राज्य के ऊर्जा मंत्री होने के साथ ही नागपुर जिले के पालक मंत्री हैं। उन्होंने कामठी नगर परिषद चुनाव को अपने प्रतिष्ठा का विषय बनाया था और स्थानीय भाजपा नेतृत्व को दरकिनार कर सुलेखाताई कुंभारे के साथ मिलकर नगर परिषद में जोर आजमाइश की थी। माना जा रहा है कि आज की पराजय से उनके प्रतिष्ठा को जबरदस्त ठेस पहुँची है।