Published On : Mon, Sep 11th, 2017

आंगनवाड़ी महिला कर्मियों के कामबंद आंदोलन से बच्चे पोषण आहार से वंचित


नागपुर: पिछले कई सालों से मानधन बढ़ाने की मांग को लेकर राज्य की आंगनवाड़ी महिलाकर्मी प्रदर्शन कर रही हैं. पिछली सरकार के समय से ही यह महिलाएं अपने अधिकार को लेकर सड़क पर उतर रही हैं. लेकिन सरकार ने इनकी मांगों पर कोई खास निर्णय या फिर ध्यान नहीं दिया. जिसके कारण सभी महिलाओं ने सोमवार से बेमियादी काम बंद आंदोलन शुरु किया. इन सेविकाओं के कामबंद आंदोलन करने से अब शालेय पोषण आहार योजना जो कि आंगनवाड़ी के बच्चों को दिया जाता है अब वह नहीं मिल पाएगा. अपनी इसी मांग को लेकर और सरकार के विरोध में हजारों की तादाद में महिलाओं ने सविंधान चौक पर प्रदर्शन किया और राज्य सरकार के विरोध में नारेबाजी की.

महिलाओं का कहना है कि राज्य सरकार ने मानधन बढ़ाने के लिए समिति गठित की थी. लेकिन उसके बाद इस पर कोई भी निर्णय नहीं लिया जा सका. मौजूदा समय में आंगनवाड़ी सेविका को 4 हजार रुपए और मदतनिस को 2500 रुपए मानधन दिया जाता है. इनकी मांग है कि आंगनवाड़ी सेविकाओं को 18,000 रुपए और मदतनीस को 10,000 हजार रुपए मानधन नहीं वेतन दिया जाए.

अपनी इसी मांग को लेकर ही आंगनवाड़ी महिला कर्मियों ने कामबंद आंदोलन किया. इसी मांग को लेकर मुंबई में भी मोर्चा किया जा रहा है. जिसमें शामिल होने के लिए नागपुर से करीब 500 महिलाएं वहा जाएंगी. बारिश होने के बावजूद अपनी मांगों लेकर सविंधान चौक पर यह सेविकाएं डटी रहीं.