Published On : Tue, Oct 9th, 2018

कृषि विश्वविद्यालय के वीसी के बयान पर विवाद

नागपुर : महाराष्ट्र में डॉ. पंजाबराव देशमुख कृषि विश्वविद्यालय के वाइस चांसलर डॉक्टर विलास भाले के बयान पर विवाद खड़ा हो गया है। एक कार्यक्रम में भाले ने बयान दिया था कि पवित्र भजन करके फसलों का उत्पादन बढ़ाया जा सकता है, इसके बाद से ही विदर्भ में इसपर सवाल उठे हैं।

कुछ दिन पहले विश्वविद्यालय में अंतर विश्वविद्यालय युवा उत्सव का आयोजन किया गया था। इस आयोजन के उद्घाटन भाषण में भाले ने भारतीय कला और संस्कृति की महानता के बारे में विस्तार से बताया। इस दौरान उन्होंने कहा, ‘शास्त्रीय संगीत मवेशियों में दूध की मात्रा बढ़ाने में मदद करता है और भजन से फसलों को बढ़ने में मदद मिलती है।’

विदर्भ के कई किसान संगठनों ने भाले के इस बयान की आलोचना की है और उनके बयान पर सवाल उठाया है। अंधश्रद्धा निर्मूलन समिति ने उनके खिलाफ एक पत्र जारी किया है और उनसे सवाल किए हैं। इसके बाद भाले ने अपने बयान पर स्पष्टीकरण भी दिया।

भाले ने कहा कि उनके बयान की गलत व्याख्या की गई और उन्होंने कभी नहीं कहा कि पवित्र भजन फसलों को बढ़ाने में मददगार होते हैं। इसके बजाय उन्होंने कहा कि भजन करने से फसलों की पैदावार प्रभावित होती है, उनका यह बयान शास्त्रीय संगीत के संबंध में था।