Published On : Wed, May 30th, 2018

माँ का इलाज करने चैतन्य बनना चाहता है डॉक्टर

Chaitnya Saayre
नागपुर: महाराष्ट्र राज्य माध्यमिक व उच्च माध्यमिक शिक्षा बोर्ड का रिजल्ट घोषित हो चूका है. मेडिकल चौक स्थित पंडित बछराज व्यास विद्यालय व कनिष्ठ महाविद्यालय में पढ़नेवाले चैतन्य सायरे ने विपरीत परिस्तिथियों के बावजूद भी 94.92 % प्रतिशत मार्क्स हासिल किए है. जो दूसरे विद्यार्थियों के लिए एक मिसाल बना है.

चैतन्य के पिताजी प्रमोद सायरे का 4 साल पहले निधन हो चूका है. वे एक इलेक्ट्रीशियन थे. इस दुखद घटना के दो महीने बाद माँ करुणा सायरे को लकवा मार गया. बावजूद इसके चैतन्य ने हौसला नहीं हारा. एक बड़ा भाई कंप्यूटर साइंस की पढ़ाई कर रहा है. घर का खर्च उसके चाचा चला रहे है. जो चैतन्य के पिता की थोड़ी बहोत खेती है उसका कार्य संभालते है. और नागपुर में चैतन्य के परिवार की आर्थिक मदद करते है. इतनी गंभीर परिस्तिथि होने के बाद भी चैतन्य ने हालात पर मात करते हुए स्कुल से टॉप किया है.

चैतन्य ने बताया कि वह ज्ञानेश्वर नगर में किराए के कमरे में रहता है. उसने अपनी सफलता का श्रेय अपनी माँ और अपने शिक्षकों को दिया है. पांच से छह घंटे रोजाना पढ़ाई करता था. उसने बताया की किताब से लेकर फ़ीस भी स्कुल के ही शिक्षकों ने भरी है. चैतन्य ने ‘नागपुर टुडे‘ से की बातचीत के दौरान बताया कि उसे डॉक्टर बनना है ताकि अपनी माँ का इलाज कर सके.