Published On : Wed, Mar 11th, 2020

मूढ़े अंदाज में जवाब दिया सभापति झलके ने

कहा ‘रितसर’ प्रस्ताव पहले भेजे

नागपुर – सत्तापक्ष के विशेष सभा रूपी हथकंडे से संभलते हुए मनपा आयुक्त मूढ़े ने ‘रिवाइज बजट व प्रस्तावित बजट’ पेश करने हेतु स्थाई समिति सभापति पिंटू झलके से लिखित गुजारिश की तो झलके ने उनके ही अंदाज में ‘रितसर’ प्रस्ताव भेजने का निर्देश मूढ़े को दिया। याद रहे कि सत्तापक्ष और मूढ़े के मध्य उनके अस्तित्व को लेकर जारी हैं तो दूसरी ओर विपक्ष में मूढ़े को लेकर एक ही गुट में दो-फाड़ होने की घटना सार्वजनिक हो चुकी हैं।विपक्ष का दूसरा गुट उक्त संघर्ष का शांत रहकर मजा ले रहा।

मूढ़े को मनपा में कदम रखे 44 दिन बीत चुके,इन दिनों आयुक्त मूढ़े ने सत्तापक्ष के मंसूबों पर पानी फेरने के अलावा कुछ भी नहीं किया।मूढ़े राज्य के सत्ताधारियों का मोहरा ही रहे हैं, जो भी सत्ता में आया उनके अस्त्र बनकर सत्ताधारियों के विरोधियों पर प्रहार किए जाने के कई उदाहरण हैं। इसलिए मूढ़े के कार्यकाल की किसी भी मनपा में उम्र 2 वर्ष से अधिक नहीं रही,अर्थात मनपा में काम करने का अनुभव अल्प रहा।

पिछले सप्ताह आम और विशेष सभा के दौरान महापौर संदीप जोशी ने जो निर्देश दिए,मूढ़े ने न सिर्फ सिरे से नाकारा बल्कि लिखित जवाब देकर अपने रवैय्ये से सत्तापक्ष को साक्षात्कार करवाया। इसका जवाब देते हुए सत्तापक्ष ने 12 मार्च को विशेष सभा का आयोजन किया,जिसमें आयुक्त मूढ़े के हरकतों से मनपा और शहर को होने वाली नुकसान पर चर्चा होनी हैं। इसकी भनक लगते ही आयुक्त मूढ़े ने जिस दिन स्थाई समिति सभापति का चुनाव था,उसी दिन सुबह सुबह पौने 9 बजे सभापति के नाम पत्र लिख 11 या 12 मार्च को ‘रिवाइज बजट व प्रस्तावित बजट’ प्रस्तुत करने हेतु लिखित निवेदन कर समय देने की मांग की।

क्योंकि स्थाई समिति सभापति का चुनाव शुरू था,पुराना सभापति इसका जवाब नहीं दे सकता था और नया सभापति नियुक्त होना बांकी था। नए सभापति पिंटू झलके के बनते ही उन्होंने 5 वें दिन मूढ़े के पत्र का जवाब दिया। इस पत्र द्वारा झलके ने मूढ़े को उनके अंदाज में लिखा कि आयुक्त ने जिस तरीके से ‘रिवाइज बजट व प्रस्तावित बजट’ पेश करने का समय मांगा,वह नियमानुसार नहीं था,इसलिए झलके ने मूढ़े को ‘रितसर’ प्रस्ताव भेजने का निर्देश दिया।


इस पत्र से मूढ़े को भी झटका लगने की जानकारी उनके ही सूत्रों ने दी।अब देखना यह हैं कि कल विशेष सभा के पूर्व आयुक्त मूढ़े क्या गुल खिलाते हैं।वैसे कल मनपा की विशेष सभा पर सभी का ध्यान केंद्रित हैं, खासकर उनका जो मूढ़े पीड़ित हैं।