Published On : Wed, Mar 28th, 2018

आरटीई में पहले एक किलोमीटर वालों को दें एडमिशन, दूसरे के प्रवेश करें निरस्त


नागपुर: आरटीई के तहत एनआईसी ( नॅशनल इन्फार्मेटिक्स सेंटर ) की गड़बड़ी के कारण स्कूल के 1 किलोमीटर के दायरे में रहनेवाले विद्यार्थियों को एडमिशन नहीं मिल पाया. जबकि वहीं 2 से 3 किलोमीटर पर रहनेवाले विद्यार्थियो का नाम आरटीई में लगा है. जिसके कारण स्कूल के समीप रहनेवाले विद्यार्थियों को शिक्षा से वंचित रहने की नौबत आ चुकी है. ऐसा न हो इसके लिए पहले 1 किलोमीटर के दायरे में रहनेवाले विद्यार्थियों को एडमिशन देने और बाद के ड्रा में दो किलोमीटर वालों का चयन करने की मांग आरटीई एक्शन कमेटी के चेयरमैन मो. शाहिद शरीफ ने की है. कमेटी की ओर से मुंबई मंत्रालय स्थित शालेय शिक्षा व क्रीड़ा विभाग की उपसचिव डॉ. सुवर्णा खरात को पत्र भेजा गया है. जिसमें आरटीई में प्रवेश के अंतर्गत आनेवाली समस्याओं का जिक्र किया गया है. एनआईसी वेबसाइट की गड़बड़ी के कारण पालकों को फॉर्म में एरियल डिस्टेंस कुछ और ही दिया गया है. जबकि एक्चुअल डिस्टेंस कुछ ओर ही है. इसमें पूरी तरह से एनआईसी की गलती और शिक्षा विभाग की लापरवाही है.

शरीफ ने उप सचिव खरात से मांग की है कि दो से तीन किलोमीटर वाले विद्यार्थियों के एडमिशन को पूरी तरह से निरस्त कर एक किलोमीटर के दायरे वाले विद्यार्थियों को एडमिशन के लिए प्राथमिकता दी जाए और जिन विद्यार्थियों के एडमिशन निरस्त किए जाएंगे उन्हें बाद में दो से तीन किलोमीटर वाले राउंड में लिया जाए. उन्होंने बताया कि बैंक द्वारा नूतन स्कूल में सील लगा हुआ है. ऐसे में जिन विद्यार्थियों को इस स्कुल में नंबर लगा है अब वे कौन सी स्कुल में एडमिशन करेंगे, इसकी जानकारी भी मांगी है. जिन स्कूलों ने आरटीई के अंतर्गत पंजीयन नहीं किया है और वह प्रवेश देने के लिए इंकार कर रहे हैं तो ऐसे में शिक्षा विभाग क्या करनेवाला है, इसकी जानकारी भी शरीफ ने उपसचिव से मांगी है.