Published On : Thu, Jan 23rd, 2020

राज्य में नहीं होने देगे CAA-NPR-विकास ठाकरे

नागपुर: नागरिक संशोधन कानून सीएए के खिलाफ पिछले 1 महीने से चल रहे आंदोलन की तर्ज पर पिछले 4 दिनों से जाफरनगर के ईदगाह ग्राउंड में महिलाओं का आंदोलन किया जा रहा है. इस आंदोलन में केवल मुस्लिम ही नहीं बल्कि अन्य समुदाय के नागरिक भी भारी मात्रा में शामिल हो रहे हैं. धरने के चौथे दिन बुधवार को कांग्रेस विधायक विकास ठाकरे ने इस आंदोलन में शामिल होकर महिलाओं के साथ मिलकर सीएए, एनआरसी और एनपीआर का पुरजोर विरोध किया. उन्होंने कहा कि इस प्रकार का कानून लागू कर देश की जनता को बांटने का प्रयास किया जा रहा है. हम यह कानून किसी भी कीमत पर राज्य में लागू नहीं होने देंगे.

महिलाओं में है जागृति
उन्होंने आगे कहा कि इस कानून को लेकर महिलाओं में काफी जानकारी है. सभी महिला एक दूसरे का साथ दे रही है और सरकार की विचारधारा को लेकर पूर्ण रूप से जागृत है. आंदोलन में सभी धर्मों के लोग व महिलाएं भी पहुंच रही हैं. नागरिक संशोधन कानून (सीएए) समेत राष्ट्रीय नागरिकता पंजीयन (एनआरसी) तथा राष्ट्रीय जनसंख्या पंजीयन (एनपीआर) के विरोध में ये प्रदर्शन है. इस दौरान केंद्र द्वारा संसद में पारित किए गए नागरिक संशोधन कानून को देश का काला कानून बताते हुए छात्राओं ने आजादी के नारे लगाए.

इस अवसर पर नितिश ग्वालबंशी, हरीश ग्वालबंशी, जाकिर खान, ओवेस कादरी, मुधोजी भोसले, अरुण लाटकर, जावेद पाशा, दानिश खान, प्रमोद ठाकुर, राम कडंबे, मुकीम खान, महिला स्पीकर में मिनहाल खान, महरुख खान, युसरा खान, जेबा खान, कुदसिया , तुबा सनोबर, इमरान अली आदि उपस्थित थे.