Published On : Sun, Jul 8th, 2018

बुराड़ी कांड: 11 के अंक में उलझी 11 मौतों की गुत्थी

Advertisement

दिल दहलाने वाले बुराड़ी कांड में एक ही परिवार के 11 लोग एक ही रात में एक साथ मौत के आगोश में समा गए. शुरुआती जांच में घर से बरामद रजिस्टर में चौंकाने वाली बातें सामने आनी शुरू हुईं. फिर 11 मौतों के पीछे घर की दीवार से बाहर निकले 11 पाइप और 11 खिड़कियों की बात सामने आई, जिसे देखने के लिए एक तरफ जहां लोगों की भीड़ जुटी. वहीं, पुलिस ने भी इसके पीछे का कारण जानने की कोशिश की.

परिवार के 11 सदस्यों की मौत के रहस्य का पता लगाने में जुटी दिल्ली पुलिस ने उन राजमिस्त्री और कर्मचारियों से पूछताछ की जिन्होंने घर में 11 पाइप लगाए थे. 11 पाइपों के बाद अब 11 अंक की चौकाने वाली नई थ्योरी सामने आ रही है.

Advertisement
Advertisement

11 अंक से जुड़े ये अजीब इत्तेफाक

बुराड़ी कांड का FIR नंबर 308 है, जिसका कुल योग 3+0+8= 11 है.

बुराड़ी कांड जिस घर में हुआ उस घर का नंबर 137 है, जिसका कुल योग 1+3+7= 11 बैठता है.

जब बुराड़ी कांड हुआ इस साल यानी 2018, जिसका भी कुल योग 2+0+1+8= 11 ही है.

11 मौतों से जुड़ा 11 अंक और लगातार आ रही 11 की थ्योरी से लोग ही नहीं पुलिस भी हैरान है. घर के आस-पास रहने वाले लोग भी अब इस घर से बाहर आने वाली 11 नंबर की थ्योरी से डरने लगे हैं.

मामले की होगी साइकोलॉजिकल ऑटोप्सी
बुराड़ी में एक ही परिवार के 11 लोगों की मौत मामले में दिल्‍ली पुलिस साइकोलॉजिकल ऑटोप्सी कराएगी. साइकोलॉजिकल ऑटोप्सी में यह देखा जाता है कि व्यक्ति अपनी मृत्यु से पहले किस मनोदशा में रहा होगा. मानव व्यवहार एवं संबद्ध विज्ञान संस्थान (इबहास) के निदेशक निमेष देसाई ने शनिवार को कहा कि बुराड़ी में एक ही परिवार के 11 सदस्यों की मौत के मामले में सामने आ रही दो तरह की बातों को अलग-अलग देखने की बजाय मिलाकर देखा जाना चाहिए.

गौरतलब है कि बुराड़ी कांड में एक संभावना यह जताई गई है कि मृतकों ने आध्यात्मिक विश्वास के वशीभूत होकर खुदकुशी की होगी. दूसरी संभावना यह जाहिर की जा रही है कि मृतकों ने मनोवैज्ञानिक विकार के कारण आत्महत्या की होगी.

दिल्ली पुलिस ने बुराड़ी कांड में एक जुलाई को मृत पाए गए 11 लोगों की मनोवैज्ञानिक ऑटोप्सी कराने का फैसला किया है. इस बारे में देसाई ने कहा कि ऐसा करना काफी मुश्किल होगा क्योंकि उस मकान में रह रहे परिवार का कोई सदस्य जीवित नहीं बचा.

130 से ज्यादा लोगों से हो चुकी है पूछताछ

इस मामले में दिल्ली पुलिस की क्राइम ब्रांच हर पहलू को जांच लेना चाहती है. यही वजह है कि पुलिस अभी तक इस केस के सिलसिले में 130 से ज्यादा लोगों से पूछताछ कर चुकी है. जिनमें रिश्तेदार, पड़ोसी और मृतका प्रियंका का मंगेतर सुमित भी शामिल है. पुलिस के मुताबिक प्रियंका ने अपने मंगेतर सुमित को इस बारे में कभी कुछ नहीं बताया था.

सुमित को उनके परिवार के बारे में कोई जानकारी नहीं थी. पुलिस को मौके से 9 फोन और एक टैब मिला था. इनमें से 5 ऑर्डनरी फोन है. जबकि 1 आईपैड मिला है, जो अभी लॉक है. पुलिस उसे खोलने की कोशिश कर रही है. इससे पहले पुलिस ने गीता नामक भजन गायिका से भी पूछताछ की. लेकिन उसका इस मामले से कोई संबंध नहीं पाया गया.

Advertisement

Advertisement
Advertisement
 

Advertisement
Advertisement
Advertisement
Advertisement
Advertisement