Published On : Fri, Feb 1st, 2019

7 करोड़ व्यापारियों के लिए निराशाजनक है बजट, व्यापारी वर्ग ने पूरी तरह से नकारा

कॉन्फेडरेशन ऑफ आल इंडिया ट्रेडर्स ने जताई नाराजगी

नई दिल्ली: केंद्र सरकार ने अपने अंतरिम बजट में किसानों, नौकरीपेशा, मध्यम वर्ग के लिए सौगातों का अंबार लगा दिया है। हालांकि, व्यापारियों ने इस बजट को निराशाजनक बताया है। कॉन्फेडरेशन ऑफ आल इंडिया ट्रेडर्स (कैट) का कहना है कि वित्त मंत्री पीयूष गोयल ने कुल मिलाकर एक अच्छा बजट है, लेकिन देश के 7 करोड़ व्यापारियों के लिए यह बेहद निराशाजनक बजट है।

व्यापारी देश की अर्थव्यवस्था की रीढ़
कैट के राष्ट्रीय अध्यक्ष बीसी भरतिया और राष्ट्रीय महामंत्री प्रवीन खंडेलवाल ने कहा कि बजट में अर्थव्यवस्था के सभी वर्गों को सुविधाएं दी गई हैं, लेकिन व्यापारी वर्ग को पूरी तरह नकार दिया गया है। उन्होंने कहा कि व्यापारी देश की अर्थव्यवस्था में रीढ़ की हड्डी का काम करते हैं। बजट को देख कर लगता है कि सरकार के लिए व्यापारी अवांछनीय हैं। भरतिया और खंडेलवाल ने कहा कि दो दिन पहले व्यापारियों के लिए वाणिज्य मंत्रालय में विभाग बनाकर एवं गुरुवार को ई-कॉमर्स में एफडीआई पालिसी को आगे न बढ़ाने के सरकार के निर्णय से देश भर के व्यापारियों को बजट से बड़ी उमीदें थी। बजट में व्यापारियों का कोई जिक्र तक न होने से व्यापारी बेहद निराश हैं। उन्होंने कहा कि वो एक बार फिर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और वित्त मंत्री पीयूष गोयल को नए सिरे से एक ज्ञापन भेजकर व्यापारियों के प्रमुख मुद्दों को सुलझाने का आग्रह करेंगे।