Published On : Tue, Jul 17th, 2018

राहुल गांधी का विदेशी खून, देश का नेतृत्व करने की अनुमति नहींः बीएसपी

लखनऊ: देश में विभिन्न राजनीतिक पार्टियां आनेवाले 2019 के लोकसभा चुनाव में बीजेपी के खिलाफ एकजुट होकर चुनाव लड़ने की तैयारी कर रही हैं।

वहीं बीएसपी, एसपी और कांग्रेस सहित अन्य पार्टियों के महागठबंधन की बात भी चल रही है लेकिन बीएसपी ने कांग्रेस के राष्ट्रीय अध्यक्ष राहुल गांधी पर हमला बोलकर यह मेसेज दिया है कि पार्टी कांग्रेस के साथ गठबंधन नहीं करेगी। बीएसपी की तरफ से कहा गया है कि राहुल गांधी का विदेशी खून उन्हें देश का नेतृत्व करने की अनुमति नहीं देगा।

Advertisement

नेता पेट से नहीं पेटी से पैदा होगा
बहुजन समाज पार्टी ने हालही में जय प्रकाश सिंह को राष्ट्रीय उपाध्यक्ष बनाया है। सोमवार को यूपी के लखनऊ में पार्टी कार्यकर्ताओं की रैली थी।

Advertisement

इसी रैली में जय प्रकाश ने राहुल गांधी पर हमला बोला। उन्होंने कहा कि पूर्व प्रधानमंत्री रहे अपने पिता राजीव गांधी की तरह उनसे कुछ उम्मीद थी। हालांकि वह अपनी मां सोनिया गांधी के पदचिन्हों पर चले।

उनकी मां एक विदेशी हैं और इसलिए राहुल गांधी कभी भी भारतीय राजनीति में सफल नहीं होगें। राजा अब रानी से पैदा नहीं होगा। अगला नेता पेट से नहीं पेटी (बैलट बॉक्स) से पैदा होगा।

कांग्रेस से नहीं चाहते गठबंधन
इस समय बीएसपी मध्य प्रदेश, छत्तीसगढ़ और राजस्थान में अगले साल होने वाले चुनाव के लिए कांग्रेस के साथ गठबंधन की बातचीत कर रही है। वहीं लोकसभा चुनाव में बीएसपी और एसपी का गठबंधन होना लगभग तय माना जा रहा है।

हालांकि अभी तक गठबंधन को लेकर कोई भी आधिकारिक घोषणा नहीं की गई है। पार्टी सूत्रों की मानें तो समाजवादी पार्टी कांग्रेस के साथ यूपी में कोई भी गठबंधन नहीं चाहती है।

शक्ति मंदिर में नहीं राजनीति में है
जय प्रकाश सिंह ने कहा कि शक्ति खेती, नौकरी, मंदिर और व्यवसा में नहीं है। अगर मंदिर में शक्ति होती तो योगी आदित्यनाथ गोरखपुर मंदिर छोड़कर उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री नहीं बनते। शक्ति सिर्फ एक जगह है, वह है राजनीति। उन्होंने स्वामी चिन्मयानंद, स्वामी अग्निवेश, उमा भारती, ऋतम्भरा और वसुंधरा का भी उदाहरण दिया।

कहा कि इन सभी धार्मिक लोगों ने अपना मठ छोड़ दिया। खुद विधायक, सांसद बन गए और आप लोगों को मंदिर की घंटी बजाने में लगा दिया। हम कोई घंटी नहीं बजाएंगे जब तक वह लोकसभा और विधानसभा चुनाव की घंटी न हो।

Advertisement

Advertisement
Advertisement
 

Advertisement
Advertisement
Advertisement
Advertisement
Advertisement