Published On : Mon, Jun 11th, 2018

बहन-जीजा और उसके परिवार को साले ने उतारा मौत के घाट अपने पांच वर्षीय बेटे की भी की हत्या

नागपुर: सोमवार की सुबह शहर के लिए काली सुबह रही। एक ही परिवार के पांच सदस्यों की हत्या से अचनाक सनसनी फ़ैल गई। मिलनसार और मदतगार स्वाभाव के कमलाकर पवनकर और उनके परिवार को किसी और ने नहीं उनके साले ने मौत के घाट उतारा। इस जघन्य अपराध को अंजाम देने वाला आरोपी विवेक पालरकर है और कमलाकर उसका जीजा। आरोपी ने अपने पाँच वर्षीय मासूम बालक कृष्णा को भी नहीं बख्शा उसकी भी धारदार हथियार से सिर में वार कर हत्या कर दी। आरोपी विवेक सनकी प्रवृत्ति का है। जिले के नवरगांव,मौदा निवासी आरोपी ने वर्ष 2014 में अपनी पत्नी को भी जलाकर मार डाला था। इसी अपराध में उम्रकैद की सज़ा भुगतने के बाद विवेक पालरकर जेल से बाहर आया था।रविवार रात अपनी बहन के दिघोरी ईलाके के आराधना नगर घर आया था। जहाँ उनसे परिवार के साथ खाना भी खाया था। इस हत्याकांड के उजागर होने के बाद से ही वो फरार है जबकि उसकी गाड़ी बहन के घर पर ही खड़ी है।

सामने आ रही जानकारी के मुताबिक संपत्ति के विवाद में इस हत्याकांड को अंजाम दिया गया। नवरगांव में 10 एकड़ पैतृक ज़मीन को लेकर आरोपी का अपनी बहन से विवाद चल रहा था। और इसी के चलते उसने इस जघन्य अपराध को अंजाम दिए जाने की बात सामने आयी है। इसके अलावा पुलिस ने अपनी प्रेस विज्ञप्ति में वारदात का जो कारण बताया था उसके मुताबिक उसके दोनों बेटे उसकी बहन के पास थे जिन्हे वो वापस माँग रहा। लेकिन पवनकार परिवार ने उसे उसके बच्चे सौपने से लगातर इनकार कर रहा था।

एक परिवार के नरसंहार के इस दिल दहला देने वाले मामले का खुलासा तब हुआ जब घर में सो रहे बच्चे सुबह 6 बजे सोकर उठे और उन्होंने घर में एक साथ पांच लाशें देखि। मृत सभी पाँचो सदस्य एक साथ सोये थे जबकि आरोपी की बेटी के साथ कमलाकर की बेटी वैष्णवी दूसरे कमरे में सोई थी। इन दोनों ने सुबह उठकर घर के सामने की रहने वाले कमलाकर के भाई की पत्नी को घटना की जानकारी दी। जिसके बाद जिसने भी घर का दृश्य देखा वो दंग रह गया।

कमलाकर पवनकर बीजेपी के सक्रीय कार्यकर्त्ता थे और प्रॉपर्टी व्यवसाय से जुड़े हुए थे। 46 वर्षीय कमलाकर के साथ उनकी पत्नी अर्चना (46),माँ 68 वर्षीय मीराबाई उनकी बेटी वेदांती (12) और आरोपी का बेटा कृष्णा इन सबकी लाश घर से बरामद हुई। आरोपी ने सब के सिर पर धारदार हथियार से वार किया था। पुलिस के 9 दल आरोपी की तलाश में जुटे है।

पहले भी अपनी पत्नी को मौत के घाट उतार चुका आरोपी उम्र कैद की सज़ा कांट चुका है। पाँच साल की सजा पूरी होने के बाद उनसे उच्च न्यायालय में रिहाई की अपील की थी।

रिपोर्ट – नरेंद्र पुरी