Published On : Sat, May 18th, 2019

रिश्वत लेते धराया रंगे हाथ धराया वाड़ी का नगराध्यक्ष

Advertisement

एसीबी ने प्रेम झाड़े को 20 हजार रुपए की रिश्वत लेते किया गिरफ्तार

नागपुर: वाड़ी नगर परिषद के अध्यक्ष प्रेमनाथ उर्फ प्रेम आत्माराम झाड़े को एसीबी ने शुक्रवार को 20 हजार रुपए की रिश्वत लेते हुए रंगेहाथ पकड़ा है. उन पर आरोप है कि उन्होंने सिविल इंजीनियरों का चार माह का बकाया वेतन दिलवाने के बदले 24 हजार रुपए की मांग की थी. आरोपी को उनके घर पर ही एसीबी ने रिश्वत लेते पकड़ा.

Advertisement
Advertisement

20 हजार देना तय हुआ था
एसीबी के सूत्रों के अनुसार उनके घर की तलाशी में कुछ दस्तावेज एसीबी के हाथ लगे हैं, जिसको लेकर जांच शुरू की गई है. प्रेमनाथ झाड़े की पत्नी का कहना है कि उनके पति को राजनीतिक षडयंत्र के तहत फंसाया गया है. बता दें कि प्रेमनाथ झाड़े भाजपा के सक्रिय पदाधिकारी रहे हैं। शिकायतकर्ता खाड़े नामक ठेकेदार का आरोप है कि उसकी संस्था द्वारा वाड़ी नगर परिषद में तीन स्थापत्य अभियंताओं ने कार्य किया था. उनका करीब चार माह से वेतन नहीं मिला था. इस वेतन को झाड़े ने निकालवा कर दिया था. इसके बदले में झाड़े ने शिकायतकर्ता से 24 हजार रुपए की रिश्वत मांगी थी, लेकिन 20 हजार रुपए देना तय हुआ था. शिकायतकर्ता यह रकम देना नहीं चाहता था, इसलिए उसने सिविल लाइंस स्थित एसीबी अधीक्षक कार्यालय में प्रेमनाथ झाड़े के खिलाफ 16 मई को शिकायत की. छानबीन के बाद एसीबी की टीम झाड़े के घर शुक्रवार की सुबह शिकायतकर्ता के साथ पहुंच कर घेराबंदी की.

योजना के अनुसार शिकायतकर्ता ने जैसे ही एक लिफाफा प्रेमनाथ झाड़े को दिया, ठीक उसी समय एसीबी दस्ते ने झाड़े को रंगेहाथ दबोच लिया. इस कार्रवाई में एसीबी के 15 से अधिक अधिकारी, कर्मचारी शामिल हुए थे. आरोपी की गिरफ्तारी के बाद उसे नागपुर के एसीबी कार्यालय लाया गया. टीम के दूसरे दस्ते ने उनके घर की तलाशी ली, जहां से कुछ महत्वपूर्ण दस्तावेज बरामद किए जाने की जानकारी है. एसीबी की महिला पुलिस निरीक्षक शुभांगी देशमुख ने सहयोगियों के साथ कार्रवाई की. एसीबी के अधीक्षक श्रीकांत धिवरे, अपर पुलिस अधीक्षक राजेश दुद्लवार, उपअधीक्षक विजय माहुलकर, महेश चाटे, भंडारा एसीबी के पुलिस निरीक्षक योगेश्वर पारधी, नायब पुलिस सिपाही सचिन हलमारे, अश्विन गोस्वामी, पराग राउत, शेखर देशकर, सुनील हुकरे, चालक सिपाही दिनेश धार्मिक ने कार्रवाई में सहयोग किया.

Advertisement

Advertisement
Advertisement
 

Advertisement
Advertisement
Advertisement
Advertisement
Advertisement