Published On : Wed, Oct 18th, 2017

अब भाजपा नेता विनय कटियार ने ताज को बताया ‘हिंदू मंदिर’

BJP MP Vinay Katiyar
नई दिल्ली: ताजमहल को लेकर छिड़े विवाद में अब बीजेपी के एक और नेता कूद पड़े हैं। भाजपा सांसद और वरिष्ठ नेता विनय कटियार ने बुधवार को इस मामले पर टिप्पणी करते हुए कहा है कि मुगलों ने हमारे देवस्थानों को तोड़ने का काम किया।

विनय कटियार यहीं नहीं रुके, उन्होंने ये भी कह दिया कि ताजमहल हिंदू मंदिर है, वहां देवी-देवताओं के सारे चिन्ह हैं। बीजेपी के इस वरिष्ठ नेता ने आगे कहा कि वहां ऊपर से पानी टपकता है जो शिवलिंग पर टपकता था, उस शिवलिंग को हटाकर वहां मजार बना दी।

बता दें कि इस विवाद की शुरूआत भाजपा विधायक संगीत सोम के ताजमहल पर दिए उस बयान से हुई जब उन्होंने मेरठ में एक जनसभा को संबोधित करते हुए कहा कि ताजमहल भारतीय संस्कृति के ऊपर बहुत बड़ा धब्बा है।

सोम ने ये भी कहा कि इतिहास को तोड़-मरोड़ कर पेश किया गया है। बाबर, अकबर और औरंगजेब जैसे जो लोग देश के गद्दार थे उन्हें इतिहास में महापुरुष बनाकर पेश किया गया, लेकिन अब ऐसा नहीं होगा। सोम ने ये भी कहा कि इनका नाम इतिहास से हटेगा।

क्या लाल किले से तिरंगा फहराना बंद होगा

सोम आगे बोले कि देश के असली महापुरुष महाराणा प्रताप, शिवाजी आदि का इतिहास अब स्कूल कॉलेजों में बच्चों को पढ़ाया जाएगा। अयोध्या में राम मंदिर और मथुरा में कृष्ण मंदिर भव्य बनेगा, इनके निर्माण को कोई नहीं रोक सकता।

संगीत सोम का बयान सामने आने के बाद इस पर बवाल शुरू हो गया। AIMIM प्रमुख असदउद्दीन ओवैसी भी ताजमहल को लेकर छिड़ी जंग में कूद पड़े। उन्होंने संगीत सोम के बयान पर पलवार करते हुए कहा कि क्या लाल किले से तिरंगा फहराया जाना बंद होगा क्योंकि वह भी गद्दारों ने बनाया था?

ओवेसी के ट्विटर अकाउंट से लिखा गया कि गद्दारों ने ही लाल किला बनाया था तो क्या पीएम वहां से तिरंगा फहराना बंद कर देंगे? क्या पीएम और योगी भारत और भारत के बाहर से आने वाले टूरिस्ट को बताएंगे कि ताजमहल को ना देखें?

गोश्त के कारखाने चलाने वाले को राय देने का अधिकार नहीं

ओवैसी के बाद आज़म खां ने भी संगीत सोम के बयान पर पलटवार पलटवार किया। यूपी के पूर्व मंत्री आज़म खां ने कहा के जिन साहब ने कहा है जिनका आप नाम ले रहे है तो उनकी बात का तो मैं जवाब नही दे रहा हूं।

क्योंकि गोश्त के कारखाने चलाने वाले को राय देने का अधिकार नहीं है। इस पर मोदी और योगी जी फैसला करेंगे लेकिन मैं पहले से इस राय का हूँ की गुलामी की उन तमाम निशानियों को मिटा देना चाहिए जिससे कल के शासकों की बू आती हो।

आजम खान ने ये भी कहा कि ताजमहल के साथ-साथ राष्ट्रपति भवन को भी गिरा देना चाहिए, क्योंकि वह भी गुलामी की याद दिलाता है। मैं तो पहले ही इसके पक्ष में हूं। हम लोगों को गुलामी की सभी निशानियों को नष्ट कर देना चाहिए जो हमें याद दिलाती हैं कि उन्होंने हम पर राज किया था। मैंने पहले भी कहा है कि हमें संसद, कुतुब मिनार, राष्ट्रपति भवन, लाल किला और आगरा का यह ताज महल सब नष्ट कर देना चाहिए।

आदित्यनाथ 26 अक्तूबर को आगरा जाएंगे

वहीं उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ 26 अक्तूबर को आगरा जाएंगे। ताजमहल को लेकर चल रहे विवाद के बीच योगी का यह दौरा मामले को रफा-दफा करने की कोशिश के रूप में देखा जा रहा है।

इस मुद्दे पर बोलते हुए सीएम ने कहा कि यह मायने नहीं रखता कि ताजमहल को किसने और क्यों बनवाया। यह भारत के मजदूरों के खून और पसीने से बना है। इसलिए यह हमारे लिए बहुत खास है। पर्यटन की दृष्टि से यह हमारी प्राथमिकता में है और पर्यटकों को सुविधाएं एवं सुरक्षा मुहैया कराना सरकार की जिम्मेदारी है।