Published On : Sat, Sep 23rd, 2017

बीजेपी सांसद नाना पटोले ने अपनी ही सरकार के खिलाफ आपराधिक मुक़दमा दर्ज करने की उठाई माँग

Nana Patole
नागपुर: अपनी ही सरकार के ख़िलाफ़ बिगुल फूँक चुके सांसद नाना पटोले ने राज्य सरकार के ख़िलाफ़ आपराधिक मामला दर्ज कराने की माँग की है। शनिवार को नागपुर में मच्छीमार शेतकरी सेल की बैठक में भंडारा-गोंदिया से सांसद ने अपनी ही सरकार पर मछली पकड़ने का काम करने वाले किसानों पर अन्याय करने का आरोप लगाया।

नाना पटोले के मुताबिक सरकार तालाबों में पीढ़ियों से मछली पकड़ने का काम करने वाले किसानो के साथ अन्याय कर रही है। एक तरफ स्किल इंडिया के माध्यम से रोज़गार उपलब्ध कराने की बात कही जा रही है दूसरी परंपरागत व्यवसाय में लगे लोगो को बर्बाद करने का षड्यंत्र कर रही है। तालाब में मत्स्यव्यवसाय को लेकर राज्य सरकार द्वारा निकाले गए जीआर की भी उन्होंने जमकर आलोचना की। पटोले का कहना है की तालाबों में मछली पकड़ने की इजाज़त देते वक्त सरकार वार्षिक तौर पर किराया वसूलती है लेकिन हकीकत में नागपुर जिले के तालाबों में दो महीने से ज्यादा पानी नहीं रहता। इस जीआर को जारी कर किसान मछली पकड़ने के व्यवसाय में लगे किसानो के साथ अन्याय है इसलिए सरकार के खिलाफ आपराधिक मुक़दमा दर्ज होना चाहिए। गौरतलब हो की पटोले बीते दिनों मुख्यमंत्री से मुलाकात कर मछली पकड़ने वाले लोगो की समस्याओं पर चर्चा भी कर चुके है।

अपनी ही सरकार पर लगातार हमला बोल रहे सांसद नाना पटोले ने यह भी साफ़ किया की उन्हें पद का कोई लोभ नहीं है वह जनता के लिए काम करते है। देश की राजधानी में रहने वाले सांसदों का उदहारण देते हुए उन्होंने कहाँ की संपत्ति अर्जित करने के लिए लोग सांसद बनते है। सांसदों के पास इतनी संपत्ति है की उनकी सात पीढ़िया गुजारा कर सकती है लेकिन वह सिर्फ जनसेवा कर रहे है। सनद रहे हालही में यवतमाल जिले के टिटवी गाँव के किसान प्रकाश मनगांवकर के परिजनों से मुलाकात कर नाना पटोले सरकार पर निशाना साध चुके है। इस घटना के बाद मृतक किसान के परिजनों ने भी प्रधानमंत्री के खिलाफ आत्महत्या के लिए प्रवृत्त करने के आरोप में आपराधिक मामला दर्ज करने की माँग कर चुका है।