Published On : Fri, Mar 20th, 2020

मध्यप्रदेश फ्लोर टेस्ट में कांग्रेस को फेल करके भाजपा बना सकती है सरकार?

नागपुर-देश में काफी दिनों से मध्यप्रदेश की राजनीति गरमाई हुई है। पिछले कुछ दिन राज्य में उधल-पूधल के बाद मामला दिल्ली पहुंचा और फिर सुप्रीम कोर्ट में भी दस्तक दे दी गई। सुनवाई करते हुए सुप्रीम कोर्ट ने कमलनाथ सरकार को शुक्रवार को शाम 5 बजे तक अपना बहुतम साबित करने के आदेश दिया। कोर्ट ने यह भी कहा कि बहुमत परीक्षण का काम शुक्रवार शाम पांच बजे तक पूरा हो जाना चाहिए। इस बीच देर रात विधानसभा अध्यक्ष एनपी प्रजापति ने 16 बागी विधायकों के इस्तीफे स्वीकार कर लिए। अब जहां बात बहुमत की सरकार की हो तो विधानसभा अध्यक्ष के इस फैसले के बाद नंबर गेम में कमलनाथ सरकार पिछड़ गई है। एक बार फिर राज्य में भाजपा की सरकार बन सकती है।

मध्यप्रदेश विधानसभा का आंकड़ा
230 सदस्यीय विधानसभा में फिलहाल 206 विधायकों की संख्या मौजूद है। इसमें 24 सीटें रिक्त हैं। ऐसे में बहुमत का आंकड़ा हो जाता है 104। कांग्रेस के 22 विधायकों के इस्तीफे के बाद कांग्रेस की विधानसभा में संख्या घटकर 91 हो गई है। वहीं, आकंड़े में 4 निर्दलीय, 2 बीएसपी और 1 एसपी से है। तो अगर ये सब भी कमलनाथ सरकार को समर्थन देते हैं तो तब कुल आंकड़ा कांग्रेस के पास 98 विधायकों का समर्थन हो जाएगा। यानी बहुमत से 6 विधायक दूर। बात स्पीकर के वोट की हो तो वह उसी सूरत में वोट करते हैं, जब फ्लोर टेस्ट के दौरान दोनों दलों को समान मत मिले। तो अगर स्पीकर कमलनाथ के पक्ष में भी वोट देते हैं तो तब भी आंकड़ा 99 पर आकर फंस जाता है।

भाजपा को बहुमत हासिल
कमलनाथ सरकार 99 विधायकों के साथ गिर जाएगी। ऐसे में भाजपा के पास पर्याप्त विधायक मौजूद हैं। भाजपा के पास 107 विधायक है। अब 22 बागी विधायकों के भी इस्तीफे हो चुके हैं तो कुल मिलाकर अगर सब भाजपा के मुताबिक हुआ तो पार्टी को सरकार बनाने में मुश्किल नहीं होगी।

थोड़ी देर में प्रेस कॉन्फ्रेंस करेंगे कमलनाथ
कमलनाथ के नेतृत्व वाली कांग्रेस सरकार का आज मध्य प्रदेश विधानसभा में फ्लोर टेस्ट होगा। दोपहर 2 बजे विधानसभा बुलाई जाएगी और 5 बजे तक फ्लोर टेस्ट को पूर्ण करने के आदेश हैं। वहीं, खबर मिली है कि फ्लोर टेस्ट से पहले मध्य प्रदेश कांग्रेस विधायक दल की बैठक सुबह 11 बजे से मुख्यमंत्री निवास पर होगी। उसके बाद दोपहर 12 बजे मुख्यमंत्री कमलनाथ सीएम हाऊस में ही प्रेस कॉन्फ्रेंस करेंगे। तो ऐसे में विधायकों के गणित को लेकर वह कुछ बड़ा ऐलान कर सकते हैं।