Published On : Mon, Feb 12th, 2018

नागपुर रेलवे स्टेशन पर बिछड़ा ईरानी जोड़ा,तकनीक का सहारा लेकर आरपीएफ़ ने फिर मिलाया स्टेशन पर गाड़ी रुकने के बाद सामान लेने प्लेटफॉर्म पर उतरी थी महिला

नागपुर: भारत भ्रमण के लिए निकला एक ईरानी जोड़ा सोमवार को नागपुर में बिछड़ गया। जिन्हें मोबाईल तकनीक और आरपीएफ ( रेलवे पुलिस फ़ोर्स ) की सूझबूझ से फिर मिला दिया गया। सोमवार सुबह नागपुर रेलवे स्टेशन पर एक विदेशी महिला कुली को दिखाई दी। महिला लगातार रोते हुए किसी अपने को ख़ोज रही थी। […]

नागपुर: भारत भ्रमण के लिए निकला एक ईरानी जोड़ा सोमवार को नागपुर में बिछड़ गया। जिन्हें मोबाईल तकनीक और आरपीएफ ( रेलवे पुलिस फ़ोर्स ) की सूझबूझ से फिर मिला दिया गया। सोमवार सुबह नागपुर रेलवे स्टेशन पर एक विदेशी महिला कुली को दिखाई दी। महिला लगातार रोते हुए किसी अपने को ख़ोज रही थी। परेशान महिला पर एक कुली की नज़र पड़ी वो उसके पास गया। चूँकि महिला को हिंदी नहीं आती थी इसलिए वह अपनी तकलीफ जाहिर करने में असमर्थ थी। कुली ने सूझबूझ दिखाते हुए महिला को स्टेशन इंचार्ज के पास ले गया। महिला ईरान की थी जिसे सिर्फ़ परशियन भाषा ही आती थी।

स्टेशन इंचार्ज भी महिला की तकलीफ़ नहीं समझ पाए। जिसके बाद आरपीएफ़ को बुलाया गया। महिला के पास पहुँचे उपनिरीक्षक एच एल मीणा को आभास हुआ की वो ईरान से है जिसके बाद उन्होंने तकनीक का सहारा लेकर गूगल मोबाईल ट्रांसलेटर मोबाईल एप्प के माध्यम से महिला से बात करने का प्रयास किया।

एप्प के माध्यम से महिला से बात करना कारगर साबित हुआ। महिला ने बताया की वो अपने पति के साथ मुंबई-हावड़ा मेल से कोलकत्ता जा रही थी। नागपुर में ट्रेन रुकने पर कुछ सामान लेने वो प्लेटफॉर्म पर उतरी। सामान की ख़ोज करते-करते वो दूसरे प्लेटफॉर्म पर चली गई इतनी देर में ट्रेन स्टेशन से छूट गई। महिला को यह भी नहीं पता था की वो किस कोच में सफ़र कर रही थी। उसने सिर्फ इतना बताय की उसके पति का नाम तहेरियान मिर्ज़ा बेकी है। महिला के पति का नाम जानने के बाद आरपीएफ़ ने एसइसीआर के कंट्रोल रूम में संपर्क किया।

कंट्रोल रूम ने मोबाईल पर ट्रेन में ड्यूटी पर तैनात सीटीई एच हरीकृष्णन से संपर्क किया। सूचना मिलने पर टीसीई ने ट्रेन में ईरानी व्यक्ति की तलाश की,इसी दौरान कोच एस 2 की 11 नंबर सीट पर महिला का पति मिला। दोनों पति-पत्नी के बीच फ़ोन पर बातचीत कराई गई। तहेरियान मिर्ज़ा बेकी को भंडारा स्टेशन पर ट्रेन से उतारा गया और वापस नागपुर लाया गया। एक दूसरे से बिछड़े ईरानी पति-पत्नी जब फिर मिले तो उनके चेहरे पर ख़ुशी की लहर दौड़ पड़ी।

Stay Updated : Download Our App
Advertise With Us