Published On : Thu, Jun 6th, 2019

‘बीट एयर पॉल्युशन’ थीम पर मनपा व ग्रीन विजिल ने मनाया विश्व पर्यावरण दिवस

नागपुर: 5 जून विश्व भर में पर्यावरण दिवस के रूप में मनाया जाता है. 1972 में ” स्टॉकहोल्म कॉनफरन्स ‘ के दौरान विश्व पर्यावरण दिवस मनाने का निर्णय लिया गया एवं सर्वप्रथम 1974 में 5 जून को ‘ऑनली वन अर्थ’ की थीम पर विश्व पर्यावरण दिवस मनाया गया. हर साल अलग-अलग थीम पर विश्व पर्यावरण दिवस मनाया जाता है, जिसकी मेजवानी अलग-अलग देश करते हैं. इस साल के पर्यावरण दिवस का थीम है “बीट एयर पॉल्युशन’ जिसका मेजबान देश है चीन.

विश्व पर्यावरण दिवस के उपलक्ष पर नागपुर महानगर पालिका व ग्रीन विजिल फाउंडेशन ने महल स्थित टाउन हॉल में नागपुर महानगर पालिका के विद्यालयों के विद्यार्थियों के साथ पर्यावरण संरक्षण के विभिन्न पहलुओं पर चर्चा सत्र का आयोजन किया. जिसके अंतर्गत विश्व पर्यावरण दिवस के इस बार के थीम – बीट एयर पोलुशन, नदी तालाबों में प्रदुषण का बढ़ता स्तर एवं समाधान , स्वच्छ भारत अभियान, ऊर्जा बचत, हरितम संकल्प, नैसर्गिक सम्पदाओं का संरक्षण आदि विषयों पर चर्चा की गई. ग्रीन विजिल संस्था के सदस्यों ने छोटे- छोटे पथनाट्य के द्वारा पर्यावरण संरक्षण के विभिन्न पहलुओं का मंचन किया. जिसमें महानगर पालिका के स्कूलों के 150 विद्यार्थियों और 30 शिक्षकों ने बढ़चढ़कर हिस्सा लिया.

Advertisement

चर्चा सत्र के दौरान स्कूली बच्चो और उपस्थित मान्यवरों ने वायु प्रदूषण को रोकने और नैसर्गिक सम्पदाओं का संरक्षण करने की प्रतिज्ञा ली. कार्यक्रम की अध्यक्षता महापौर नंदा जिचकार ने की, जिन्होंने स्कूली बच्चों को पर्यावरण संरक्षण में भाग लेने के लिए प्रोत्सातहित किया. चर्चा सत्र के दौरान मुख्य रूप से उपमहापौर दीपराज पार्डीकर, प्रवीण दटके, अशोक पाटिल, सहायक आयुक्त उपस्थित थे. मंच संचालन शुभांगी पोहरे एवं प्रस्तावना प्रीति मिश्रीकोटकर ने की. चर्चा सत्र का संचालन ग्रीन विजिल फाउंडेशन के संस्थापक कौस्तभ चटर्जी ने किया.

Advertisement

कार्यक्रम को सफल बनाने के लिए नागपुर महानगर पालिका के शिक्षण विभाग से कुसुम चाफलेकर एवं ग्रीन विजिल फाउंडेशन के कौस्तभ चटर्जी, सुरभि जैस्वाल, मेहुल कोसुरकर, कल्याणी वैद्य, दिगांबर नागपुरे, कार्तिकी कावले, नम्रता झवेरी, रजत जैस्वाल, रुचि सोनी, दादाराव मोहोड़, इंद्रायणी ठाकरे, चिन्मय धीमान, अभिषेक वैद्य, क्रुणाल बोरकर, ईशा सगदेव, गौतमी ठाकरे, आदि ने अथक परिश्रम किया.

Advertisement
Advertisement
Advertisement
Advertisement
Advertisement
Advertisement

 

Advertisement
Advertisement
Advertisement