Published On : Thu, Jun 17th, 2021

बाबुलबन मैदान का होगा सौन्दर्यीकरण : महापौर

– महापौर दयाशंकर तिवारी ने विधायक खोपडे के साथ किया दौरा

नागपूर : महापौर दयाशंकर तिवारी ने विधायक कृष्णा खोपडे के साथ आज बाबुलबन पाणी टाकी का दौरा कर परिसर की समस्याओ का जायजा लिया. बाबुलबन मैदान की हालत को देखते हुए जल्द ही इस मैदान का सौन्दर्यीकरण करने को लेकर उन्होने परिसर के नागरिको को आश्वस्त किया. साथ ही मैदान के आसपास की सभी समस्याओ को गंभीरता से लेते हुए तुरंत हल निकालने का आदेश संबंधित अधिकारियो को दिया .

गौरतलब है की, केंद्र सरकार की अमृत योजना के तहत बाबुलबन मैदान परिसर में पाणी टांकी का निर्माण महानगर पालिका के माध्यम से किया गया. टाकी का काम लगभग पूर्ण हो चुका है, जल्द ही केंद्रीय मंत्री नितीन गडकरी के हाथो इस टाकी का लोकार्पण होना है . इसके पूर्व 12 जून को विधायक कृष्णा खोपडे ने म.न.पा. अधिकारीयो के साथ इस टाकी परिसर का निरीक्षण किया था . टाकी के निर्माण से बाबुलबन मैदान की हालत काफी चिंताजनक है . जिसके लिए विधायक खोपडे ने अधिकारीयो को खरी-खोटी सुनाई तथा महापौर दयाशंकर तिवारी को पत्र लिखकर इस बारे में अवगत कराया . जिसमे तथा जिसके चलते महापौर दयाशंकर तिवारी ने बाबुलबन मैदान का निरीक्षण किया .

म.न.पा. अधिकारियो की सुस्त कार्यप्रणाली, विधायक खोपडे ने उठाया सवाल
विधायक कृष्णा खोपडे ने म.न.पा. अधिकारियो की कार्यप्रणाली पर सवाल उठाते हुए बताया की, 13 जून 2017 को तत्कालीन अतिरिक्त आयुक्त.रामनाथ सोनवाने ने प्रोजेक्ट सेल के कार्यकारी अभियंता चौंगजकर को पत्र लिखकर बाबुलबन मैदान की सुरक्षा दिवार, बच्चो की खेलसामग्री, पेड लगाना तथा संपूर्ण सौन्दर्यीकरण करने के आदेश दिये थे, सात दिनो के भीतर प्रस्ताव सादर के निर्देश दिये थे. जिसे चौंगजकर ने उपअभियंता इसराईल को भेजा तथा इसराईल ने दुपारे को भेजा। इसके बाद यह पत्र फाईल में बंद (नस्तीबद्ध) हो गया। म.न.पा अधिकारियो की इस तरह की कार्यप्रणाली को लेकर विधायक कृष्णा खोपडे ने खुले तौर पर नाराजी जाहीर की.

दौरे के समय उपमहापौर मनिषा धावडे, जलप्रदाय समिती के सभापती संदीप गवई, नगरसेवक बाल्या बोरकर, कांता रारोकर, दुनेश्वर पेठे, प्रदीप पोहाणे, मनिषा अतकरे, संजय अवचट, महेंद्र राऊत, जे.पी.शर्मा, लकडगंज झोन सहायक आयुक्त साधना पाटील, अधिकारी तालेवार, गणवीर, दुपारे, कार्यकारी अभियंता रक्षमवार, दांडेकर, बालू रारोकर, मनोज अग्रवाल, नामदेव ठाकरे, गोविंद धोसेवान, ओ.सी.डब्लू व अमृत योजनेचे संबंधित अधिकारी उपस्थित थे.