Published On : Tue, Nov 21st, 2017

क्या बिजली बिल के बकायदार नगरसेवक-नगरसेविकाएँ SNDL के करीबी रिश्तेदार है?

AAP on SNDL
नागपुर: हालही ही में नागपुर के लोकप्रिय दैनिकों में बिजली बिल बकायदार नगरसेवक/नगरसेविकाओं के नाम प्रकाशित हुए थे, बकायदारों पर बकाया कर नागपुरवासी अच्चम्बे में पड गए. अच्चम्बे में इसलिए नहीं पड़े के वे बिजली बिल के बकायदार है बल्कि इसलिए की एस.एन.डी.एल. उन बकायदारों पर इतनी मेहरबान क्यूँ है. क्यूंकि आम आदमी का बिजली बिल का बकाया होने पर एस.एन.डी.एल. के द्वारा किये जाने वाले व्यवहार का बहुत बुरा अनुभव है. लेकिन नगरसेवक/नगरसेविकाओं के मामले में एस.एन.डी.एल. की उदारता कुछ समज के परे है. आप आदमी पार्टी नागपुर एस.एन.डी.एल. के इस भेदभाव पूर्ण रवैय्ये का तीव्र शब्दों में निषेध करती है!

नगरसेवक/नगरसेविकाओं का बिजली बिल बकाया का मामला सिर्फ एस.एन.डी.एल. तक सिमित नहीं है क्यूंकि यह आशंका है की इन जनप्रतिनिधियों ने सितम्बर२०१७ में हुए नागपुर महानगरपालिका के आम चुनाव में फॉर्म क्रमांक २६ के तहत जो हलफनामा दायर किया था उसमे उन्होंने ये कहा था की उनके ऊपर किसी भी वित्तीय, शाशकीय एवं निम-शाशकीय संस्थाओं का कुछ भी बकाया नहीं है. अगर उक्त जनप्रतिनिधियों की जानकारी झूठी साबित हुई तो उनकी सदस्यता रद्द की जा सकती है अत: यह मामला बहुत गभीर है. आम आदमी पार्टी नागपुर को जो जानकारी प्राप्त हुई है उसके मुताबिक १११ जनप्रतिनिधियों के ऊपर बिजली बिल का बकाया है. कुछ जनप्रतिनिधियों का बकाया तो वर्ष २०१५ से है और कुछ जनप्रतिनिधियों पर वर्ष २०१७ माह जून में हजारो रूपए का बकाया है.

ईससे यह बात की आशंका पैदा होना स्वाभाविक है की सही मायने में कितने जनप्रतिनिधि माहे फरवरी २०१७ में बिजली बिल के बकायादार नहीं थे. ऐसा प्रतीत होता है की जनप्रतिनिधिओ ने जनप्रतिनिधि अधिनियम १९५१ का उल्लंघन किया है उसमे एस.एन.डी.एल. भी प्रत्यक्ष रूप से सहभागी है. जो की बहुत ही गभीर बात है. अगर एस.एन.डी.एल. द्वारा माहे जनवरी २०१७ में बिजली बिल के बकाया के खिलाफ कार्यवाही की जाती तो कई वर्तमान जनप्रतिनिधि या तो चुनाव में अपात्र गोषित किये जाते या फिर बिजली बिल का बकाया भर दिए होते, जिससे आज जो गंभीर स्तिथी निर्माण हुई वह नहीं होती.

अत: नागपुर महानगरपालिका के चुनाव में जो भी उम्मेदवार जीते है उन तमाम जन्प्रतिनिधिओं की माहे फरवरी की क्या स्तिथी थी उसे स्पष्ट कर जनता के सामने लाने की जिम्मेदारी एस.एन.डी.एल. की है. इस निवेदन के माध्यम से आम आदमी पार्टी नागपुर यह मांग करती है की आज से ४८ घंटो के भीतर एस.एन.डी.एल. इस स्तिथी को स्पष्ट करे. आम आदमी पार्टी के पास कई उदाहरण है जहां एस.एन.डी.एल. ने नागरिकों बिना पूर्व सुचना के बिजली बिल बकाया के नाम पर मीटर काटी है. जबकि उन नागरिकों का बकाया जनप्रतिनिधिओं के बकाया राशी से काफी कम था.

इस निवेदन के माध्यम से आम आदमी पार्टी नागपुर स्पष्ट तोर से यह कहना चाहती है की जब तक जनप्रतिनिधिओं से बकाया वसूल कर नहीं लिया जाता तब तक शहर में किसी भी आम आदमी के घर का बिजली कनेक्शन काटा ना जाए. एस.एन.डी.एल. के पक्षपाती रवैय्या के खिलाफ आम आदमी पार्टी भविष्य में तीव्र आन्दोलन करने की चेतावनी देती है.