Published On : Thu, May 21st, 2015

अमरावती : 8 जिलों में भी टेक्सटाइल पार्क

सीएम की घोषणा

21 Textiels Park
अमरावती। राज्य में सर्वाधिक कपास उत्पादन करने वाले 8 जिलों में भी नांदगांव पेठ की तर्ज पर टेक्सटाइल पार्क साकार करने की घोषणा मुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस ने की. इन 8 जिलों में यवतमाल, बुलडाणा, जलगांव, औरंगाबाद, जालना, परभणी, बीड और नांदेड का समावेस रहेगा. गुरुवार को नांदगांवपेठ अतिरिक्त फाइवस्टार एमआयडीसी में श्याम इंडोफेब के शुभारंभ पर सीएम ने कहा कि कपास का उत्पादन वाले क्षेत्रों में ही किसान आत्महत्याओं का प्रमाण सर्वाधिक देखा गया है. लिहाजा प्रक्रिया उद्योग के साथ ही सिंचाई सुविधा उपलब्ध कराने के लिये विशेष प्राधान्य दिया जा रहा है. जलयुक्त शिवार अभियान भी उसी का एक हिस्सा है. पानी का विकेंद्रीत भंडार तैयार होना चाहिये. कुएं के काम पूर्ण होने आवश्यक है. सिंचाई सुविधा उपलब्ध हुये बगैर किसानों का जीवनमान नहीं सुधर सकता. इसी बात को ध्यान में रखते हुये प्रक्रिया उद्योग और सिचाई पर विशेष जोर दे रहे है.

श्याम इंडोफेब का निरीक्षण
उद्योगमंत्री सुभाष देसाई की अध्यक्षता में सुबह 11 बजे हुये इस समारोह में पालकमंत्री व उद्योगराज्यमंत्री प्रवीण पोटे पाटील, गृहराज्यमंत्री रणजित पाटील, सांसद आनंदराव अडसूल, रामदास तडस, विधायक डा. सुनील देशमुख, यशोमती ठाकुर, रवि राणा, डा. अनिल बोंडे, रमेश बुंदीले, वस्त्रोद्योग के अपर सचिव सुनील पोरवाल, मुख्यमंत्री के प्रधान सचिव प्रवीण परदेशी, उद्योग के प्रधान सचिव अपूर्व चंद्रा, एमआयडीसी के सीईओ भूषण गगराणी,सह सीईओ आनंद रायते मंचासीन थे. समारोह के बाद सीएम ने श्याम इंडोफेब का सुक्ष्म निरीक्षण भी किया. उत्पादन करने वाली मशनरियों की जानकारी ली.

सामंजस्य करार वाले उद्योजकों को करे प्रोत्साहित
टेक्सटाइल पार्क साकार करते समय सडक़, बिजली, पानी जैसी मुलभूत सुविधाएं उपलब्ध कराने पर विशेष ध्यान देने की आवश्यकता है. उद्योजकों को आकर्षित करने के लिये केवल एक माह में सभी तरह की परमीशन देने का निर्णय शासन ने लिया है. वित्तिय संस्था से कर्ज लेकर राज्य शासन प्रोत्साहन के तौर पर उद्योजकों को आर्थिक सहायता देती थी, लेकिन अब नीजि उद्योग और ज्यो कोई इस स्वरुप के उद्योग शुरु करने के इच्छुक है. उन्हें प्रोत्साहन के तौर पर आर्थिक सहायता देने का निर्णय शासन ने लिया है. एडवांटेज विदर्भ के समय सामंजस्य करार होने के बाद भी ज्यो उद्योग विदर्भ में शुरु नहीं हो पाये उन सभी उद्योगों की समस्याएं जानकर उन्हें निवेश के लिये प्रोत्साहित करने का भी आवाहन सीएम ने उद्योग विभाग से किया. नांदगांवपेठ में उद्योग विभाग ने टेक्सटाइल पार्क के लिये बेहतर सुविधाएं उपलब्ध करायी है. यह माडल देश में सर्वोत्तम साबित होगा. इसका अनुकरण अन्य राज्य भी करेंगे.


एक माह मिलेगी सभी एनओसी
फडणवीस के अनुसार आज देश में 50 प्रतिशत युवा 25 वर्ष से कम आयु के है. उनके हाथ को काम देना और उसके लिये कौशल्य पर आधारित प्रशिक्षण देना शासन का कर्तव्य है. स्थानीय लोगों को रोजगार देने की दृष्टि से युवाओं को प्रशिक्षित करने की नितांत आवश्यकता है. आज 6 उद्योजकों को एक ही समय परमिशन दी गई है. नांदगांव पेठ में इन उद्योगों से 3702 लोगों को रोजगार मिलेगा. जबकि भविष्य में 25 हजार स्थानीय युवाओं को रोजगार उपलब्ध होगा. भविष्य में उद्योजकों को कोई असुविधा या परेशानी नहीं होगी. विदर्भ में खेती को उर्जिता अवस्था दिलाने के लिये अमरावती संभाग में 6000 कुओं का काम शीघ्र ही पुर्ण होगा. जहां डिमांड वहां बिजली कनेक्शन देने की नीति शासन ने अपनायी है. इसके लिये 1 हजार करोड़ रुपये का प्रावधान किया गया है.