Published On : Fri, May 15th, 2015

अमरावती : पत्नी का गला घोंटकर पति ने खाया जहर


बंद कमरे में मिली लाशे

महावीर नगर की घटना

15  Netam Dampati 1
अमरावती। पारिवारिक कारणों से हुई विवाद में पत्नी का गला घोंटकर पति ने जहर खाकर आत्महत्या कर ली. शुक्रवार की दोपहर महावीर नगर के देशपांडे प्लाट में सामने आयी इस दुस्सहासी वारदात से परिसर में सनसनी मच गई. मृतक मनीषा दिलीप नेताम (30) तथा दिलीप नेताम (35) है. राजापेठ पुलिस मौत के कारणों का पता लगा रही है.

दोपहर तक नहीं हलचल
महावीर नगर के देशपांडे प्लाट निवासी आर.एन.दातार के मकान में नेताम दंपति पिछले 3 माह से किराये पर रह रहे है. उन्हें दो बच्चे ऋषिकेश (14) व साक्षी (9) है. दोनों बच्चे छुट्टियां बीताने अपने दादा के गांव नेर गये हुए है. जिससे मकान में केवल नेताम दंपति मौजुद थे. गुरुवार की रात 10 बजे भोजन के पश्चात वह सो गये. शुक्रवार की सुबह से ही नेताम के मकान का दरवाजा भीतर से बंद था, लेकिन किसी ने उस ओर ध्यान नहीं दिया. दोपहर तक कोई हलचल ना होने से मकान मालिक दातार को संदेह हुआ. उसने कई बार आवाज लगाई, लेकिन भीतर से कोई जवाब नहीं आया. सूचना पर राजापेठ पुलिस वहां पहुंची.

15 Netam Dampati
छत फादकर भीतर घुसी पुलिस

दरवाजा भीतर से बंद होने के कारण पुलिस ऊपरी छत से अंदर घुसी. घर की सखली खोलते ही दोनों मृत अवस्था में पड़े दिखाई दिये. मनीषा जहां पलंग पर मृत अवस्था में पड़ी थी, जिसके पास ही नारंगी रंग का दुप्पटा पड़ा था. वहीं दिलीप की लाश फर्श पर पड़ी हुई थी, जिसके मुंह से सफेद फेस निकला हुआ था. जिसे देखकर पुलिस ने प्राथमिक अनुमान लगाया कि उसने पत्नी का दुप्पटे से गला घोंटकर हत्या कर खुद जहर पीकर आत्महत्या कर ली. राजापेठ थानेदार एस.एस.भगत ने पंचनामा कर लाशों को जिला अस्पताल में भिजवाया. दिलीप मुलताह नेर के पातरुगुडे का रहने वाला है. उसकी ससुराल सुशील नगर में है. वह हाथ मजदूरी कर परिवार चलता. उसने ऐसा कदम क्यु उठाया इस बारे में अब तक पुलिस के हाथ कोई जानकारी नहीं लग पाई है. पुलिस रिश्तेदार व संगे संबंधितों से जानकारी जुटा रही है.


15 Mahaveer nagar
पीएम से पता चलेगा मौत का कारण

पत्नी का गला घोंटकर हत्या करने के पश्चात आत्महत्या करने की बात प्राथमिक जांच में सामने आयी है, किंतू पोस्टमार्टम रिपोर्ट से ही उनकी मौत के कारण स्पष्ट होगे. उनकी मौत पर रहस्य बरकरार है. कोई ठोस वजह अब तक सामने नहीं आयी है.
एस.एस.भगत, राजापेठ थानेदार