Published On : Wed, Jul 1st, 2015

अकोला : पुलिस का तगडा बंदोबस्त, आरोपियों ने कबूला जुर्म


मालपुरा हत्याकांड : आरोपियों से हथियार जब्त

अकोला। हमलावरों क्रूरता की इंतेहां करते हुए चरहाटे परिवार को मौत के घाट उतारा. वह मंजर मालपुरा के कई बाशिंदो ने खुली आखों से देखा उस तांडव की दहशत आज भी मालपुरा वासियों में कायम है. स्थानीय नागरिक घटना के बाद से सहमें हुए है और चार-चार हत्या के आघात से अब तक उबरे नहीं हैं. पिछले दो दिन से गंव में किसी के घर चुल्हा नहीं जला है. पुलिस की पेट्रोलिंग जारी है. वहीं कडा पुलिस की पेट्रोलिंग जारी है. वहीं कडा पुलिस बंदोबस्त भी तैनात है. दौरान मंगलवार को हत्याकांड में गिरफ्तार आरोपिंयों ने अपना जुर्म कबूल कर लिया. साथ ही खून सने कपडे तथा हत्याकांड में हस्तेमाल किए गए हथियार भी बरामदकरवा दिए जिसे पुलिस ने जप्त कर लिया है.

ज्ञात होत कि तेल्हारा तहसील अंतर्गत आनेवाले ग्राम मालपुरा में रविवार को चर्हाटे परिवार के चार सदस्यों की निर्दयता से हत्या कर दी गई थी. हत्याकांड मृतकों की बहन तथा रिश्ते में बुआ ने करवाया था. मालपुरा गांव मुख्य रास्ते से हटकर होने के तारण वहां पहुंचने के लिइ ठीक रास्ता भी नहीं है. गांव मे लगभग 25 परिवार के 150 नागरिक रहते है. ऐसे छोटे से गांव में 28 जून को दोपहर 4 बजे घटी घटना ने पारिवारिक रिश्तों को कलंकित कर रख दिया. क्योंकि रिश्ते में बहन ने अपने पति एवं दो बच्चों की सहायता से दोन भाई तथा दो भतीजों को हथियारों से काट डाला था. इस घटना में रंजना चरहाटे व ज्योति चरहाटे ने अपनी मांग का सिंदूर गंवाया वहीं यश, पूजा, मुन्नी, रानी तथा रामविलास ने पिता की छत्रछाया खो दी.

मालपुरा में चर्हाटे परिवार करोडपति परिवार माना जाता है. क्योंकि सुखदेव चरहाटे को दो लडके तथा चार लडकियां हैं और 32 एकड खेत बडा बेटा बाबूराव तथा छोटा बेटा हरिहास संभालते है. बाबूराव सेवा निवृत्त अध्यापक है, जबकि  हरिदास पुलिस विभाग में कार्यरत था. घटना की मुख्य सूत्रधार द्वारकाबाई से बाबूराव एवं हरिदास का मनमुटाव था. द्वारकाबाई अपने दोनों भाईयों को मिले 16-16 एकड खेत में से मात्र एक-एक एकड खेत मांग रही थी. पिता के निर्देश पश्चात द्वारकाबाई दो एकड खेत में फसल ले रही थी. बारिश के बाद खेत में बोई गई फसल के पौधों पर हल चलाकर फसल बर्बाद कर दी थी. जिससे द्वारकाबाई संतप्त थी. फसल को नष्ट कर देने के कारण उसने अपने दो बेटे तथा छुरी की सहायता से हरिभाऊ तथा बाबूराव शुभम व गौरव को दिन दहाडे काट डाला. एक ही समय में चार सदस्यों की हत्या मालपुरा ने पहली बार देखी इस घटना से पूरा जिला सकते में है.

पुलिस बंदोबस्त लगाया गया है. वहीं पेट्रोलिंग की जा रही है. अस्पताल में भरती आरोपी हरीभाऊ तेलगोटे को अस्पताल से छुट्टी मिलने के बाद उसे तेल्हारा न्यायालय में उपस्थित किया गया. जहां न्यायालय ने उसे छह दिनी पुलिस हिरासत में रखने के निर्देश दिए है.
Akola Murder of 4