| | Contact: 8407908145 |
    Published On : Tue, Jul 14th, 2015
    Vidarbha Today | By Nagpur Today Vidarbha Today

    अकोला : 22 दिनों से बारिश गायब, किसानों की चिंता बढ़ी


    अकोला।
    जिले में 22 दिनों से बारिश गायब होने से किसानों के साथ ही आम जनता की परेशानी बढ गई हैं. बारिश न होने से जहां पेयजल संकट गहराने के आसार नजर आ रहे हैं, वहीं किसानों की फसलें बारिश के अभाव में सूखने लगी है. ऐसी स्थिति में लोडशेडिंग, कर्ज का पुनर्गठन, पेयजल किल्लत, उमस, बीमारियों ने नागरिकों हे हाल बेहाल कर दिए हैं. इस अकाल सदृष्य स्थिति की वजह से विविध समस्याओं ने अपना मुंह खोलना शुरू कर दिया है. अब सभी की आंखे आसमान की ओर लगी हुई हैं कि बारिश कब होगी? बारिश के आगमन में और विलंब हुआ तो हालात और बिगडने की संभावना से भी इन्कार नहीं किया
    जा सकता.

    जलसंकट का साया
    अकोला जिला समेत पश्चिम विदर्भ में जिस तरह से बारिश ने मुंह मोडा है. उसे देखते हुए आगामी एक सप्ताह के भीतर यदि फिर से बारिश आरंभ नहीं हुई तो जहां किसानों के सामने दुबारा या तिबारा बुआई की नौबत आ सकती है वहीं अकोला शहर समेत 53 गांवो को आगामी समय में भीष जलसंकट से दो-चार होना पड सकता है. अकोला शहर समेत मूर्तिजापूर एवं नदी परिसर से जुडे 53 गांवों को जलापूर्ति करने वाले महान बांध में 13 जुलाई तक मात्र 8 प्रतिशत जलसंग्रह बच हुआ था. लगभग 30 साल से अकोलावासियों समेत आसपास के कई गांवों को पीने का पानी देने वाले काटेपूर्णा के महान जल ग्रहण क्षेत्र में प्रतिवर्ष बारिश के साथ बहकर आने वाली मिट्टी से बांध की गहराई कम होती गई है. आज बांध की गहराई कम होती गई है. आज बांध की गहराई इतनी कम हो गई है कि जल ग्रहण क्षमता तथा जलसंचय क्षमता दोनों भी काफी कम हुए है. इस अनुपात में महान बांध में केवल 8 प्रतिशत जलसंग्रह शेष बचा है. बांध के दो वाल्व पहले ही खुल चुके थे आज तिसरा वाल्व भी पानी के बाहर आ गया है, जो इस बात का संकेत दे रहा है कि आने वाले समय में यदि बारिश नहीं हुई तो पेयजल की भीषण किल्लत से अकोला शहरवासियों को जूझना पड सकता है.

    महान संवाददाता अनीस शेख से मिली जानकारी के अनुसार सोमवार 13 जुलाई को महान बांध में कुल 1112.29 फीट, 339.03 मीटर जलसंग्रह शेष है. जिसमें 6938 उपयुक्त जल एवं प्रतिशत में 8.03 इतना ही पानी बचा हुआ है. विगत वर्ष 13 जुलाई को महान बांध का जलस्तर 21.46 प्रतिशत पर था. आज उसकी स्थिति 13 प्रतिशत से घटकर 8 प्रतिशत तक पहुंच गई है. विगत वर्ष पूरी क्षमता से बारिश नहीं हुई.

    file pic

    file pic

    Stay Updated : Download Our App
    Mo. 8407908145