Published On : Thu, May 21st, 2015

अकोला : रोशनी नहीं मिली, घर का चिराग बुझ गया

Akola Farmer suicide
अकोला। कर्ज लेकर खेत में बोअर करने के बावजूद पानी खींचने के लिए बिजली का कनेक्शन न मिलने, संबंधित ठेकेदार द्वारा कनेक्शन के लिए 20 हजार की मांग करने के कारण परेशान गरीब युवा किसान विनोद खारोडे ने मंगलवार सुबह हिवरखेड के बिजली वितरण कार्यालय में विष प्राशन किया था. उसे तुरंत अकोला के सर्वोपचार अस्पताल में भर्ती कराया गया. जहां बुधवार सुबह उसने दम तोड दिया. परिवार को सुधारने के प्रयास में बिजली कनेक्शन की मांग कर रहे विनोद को कनेक्शन नही मिला अलबत्ता परिवार का चिराग बुझ गया. इस घटना ने तलेगांव बाजार के किसानों को झकझोर कर रख दिया है.  स्थानीय नागरिकों ने बिजली वितरण के सहायक अभियंता घोडे के खिलाफ मामला दर्ज करने की मांग की है.

ज्ञात हो कि सिंचाई के लिए खेत में बोरिंग करने के बावजूद तलेगांव बाजार के युवा किसान विनोद खारोडे को तीन साल से बिजली कनेक्शन के लिए हिवरखेड के विद्युत कार्यालय में चक्कर कांटते हुए अपनी  चप्पल घिसनी पडी, जिससे कुंठाग्रस्त किसान ने विद्युत वितरण कार्यालय में मंगलवार सुबह 11:30 बजे जहर गटककर खुदकुशी का प्रयास किया. किसान को इलाज के लिए सर्वोपचार अस्पताल में भर्ती  कराया गया था. चिकित्सकों के लाख प्रयास के बावजूद युवा किसान को बचाया नहीं जा सका. आज सुबह उसने दम तोड दिया. विनोद खारोडे ने जहर गटकने के पूर्व जो सुसाईड नोट लिखा था उसके अनुसार  बिजली कनेक्शन जोडने के लिए किसान से 20 हजार रूपए की मांग संबंधित अभियंता द्वारा की गई थी.

akola
मृतक विनोद के पास असिंचित 3 एकड खेत हैं. पैदावार न होने के कारण उसने कर्ज लेकर खेत में बोअर किया साथ ही बिजली कनेक्शन के लिए बिजली वितरण में 8 मई 2013 को आवेदन किया मांग मंजूर होने के बाद 20 अगस्त 2014 को कोटेशन के पैसे भी जमां किए लेकिन हर बार ठेकेदार, अभियंता तथा कर्मचारियों ने उसे झांसे में रखा. तीन साल बीतने के बाद भी बिजली का कनेक्शन नहीं मिला था. पिछले 15 दिन से विनोद हिवरखेड के बिजली वितरण कार्यालय में चक्कर काट रहा था. कनेक्शन के लिए उससे 20 हजार रूपए मांगे गए जिससे परेशान होकर उसने मंगलवार को विष प्राशन कर आत्महत्या का प्रयास किया था. इलाज के दौरान उसकी मौत हो गई. घटना के समय किसान के पास बिजली कंपनी के करार नामे की चिट्टी, कोटेशन की फोटोकापी, बैंक का पासबूक साथ था.