Published On : Wed, Jul 12th, 2017

कॉटन मार्केट के पास फिर काटा गया पेड़

Advertisement

Tree Cut Near Cotton Mraket
नागपुर:
 पर्यावरण के संरक्षण के िलए पेड़ो को बचाने की कवायद चल रही है. जिसके के लिए शहर भर के सरकारी विभागों में पेड़ों को बचाने के लिए और जागरुकता का सन्देश देने के लिए पौधारोपण का कार्य भी किया जा रहा है. लेकिन पेड़ो के काटने को लेकर बनाए गए नियमों में बदलाव के कारण अब शहर में मनमाने तौर पर पेड़ों की कटाई की जा रही है. इसी का नतीजा है कि मंगलवार को कॉटन मार्किट के एम्प्रेस मॉल की ओर जानेवाली सड़क के किनारे लगे एक पेड़ को काट दिया गया. पेड़ को काटने के लिए नागपुर महानगर पालिका पेड़ के अपने आप गिर जाने की जानकारी दी दे रहा है. लेकिन किस वजह से गिरा इसका कोई जानकारी नहीं दी जा रही है. जबकि पेड़ को देखने पर कहीं से भी ऐसा दिखाई नहीं देता कि पेड़ हवा, तूफ़ान या बारिश से गिरा होगा. इसमें गौर करनेवाली बात यह है कि पेड़ के ठीक पीछे विज्ञापन का होर्डिंग लगा हुआ है. जिस पर एजेंसी का नाम भी दिया गया है. इस विज्ञापन के होर्डिंग के ठीक सामने पेड़ होने के कारण विज्ञापन ठीक तरह से दिखाई नहीं दे रहा था. जिसके कारण भी पेड़ को काटने की आशंका से इंकार नहीं किया जा सकता.

राज्य सरकार ने पेड़ों को काटने के लिए नियमों में काफी बदलाव किए गए हैं. जिसके बाद अब उद्यान निरीक्षक खुद जाकर निरिक्षण कर अपनी रिपोर्ट दे सकते हैं और उस रिपोर्ट के आधार पर या पेड़ की फोटो के आधार पर मनपा आयुक्त 25 पेड़ों से कम को काटने की अनुमति अधिकारियों को दे सकते हैं. इस नियम के कारण शहर में अवैध तरीके से पेड़ों को काटने का कार्य शुरू है.

इस बारे में उद्यान अधीक्षक सुधीर माटे से बात की गई तो उन्होंने जानकारी बताया कि कॉटन मार्केट एम्प्रेस मॉल के पास के पेड़ को काटा नहीं गया है बल्कि वह पेड़ गिर गया था. जिसके कारण उसे वहां से हटाया गया है. माटे ने बताया कि उन्हें फ़ोन पर जानकारी मिली थी कि पेड़ सड़क पर गिरा है. वहीं जब इस मामले को लेकर पर्यावरण सेवी संस्था ग्रीन विजिल के संस्थापक कौस्तुभ चटर्जी से बात की गई तो उन्होंने पेड़ों को काटने के लिए राज्य सरकार के बनाए हुए नए नियमों पर अपनी नाराजगी व्यक्त की. उन्होंने बताया कि धड़ल्ले से जो शहर में पेड़ों की कटाई हो रही है, उसके लिए पूर्णरूप से नियम ही जिम्मेदार हैं. उन्होंने बताया कि इस नियम के तहत अब कोई भी आवेदन कर पेड़ काट सकता है.

Advertisement
Advertisement
Advertisement

Advertisement
Advertisement
 

Advertisement
Advertisement
Advertisement
Advertisement
Advertisement