Published On : Mon, Apr 3rd, 2017

सुको के फतवे बाद ग्राहकों को रिझा रहे “वाइन शॉप” संचालक

नागपुर: वर्ष २०१६-१७ आर्थिक वर्ष के दिन ३१ मार्च को सुको ने कड़क निर्देश देते हुए केंद्र सरकार के मार्फ़त सभी जिला प्रशासन को कड़क शब्दों में कहा कि किसी भी राज्य या राष्ट्रीय राजमार्ग पर शराब की बिक्री पूर्णतः बंद किये जाये।यहाँ तक की उससे सम्बंधित होर्डिंग सह विज्ञापन फलक भी हटाये जाये। बावजूद इसके निर्देशों की अवहेलना का दौर जारी है.

पागलखाना-ओबेदुल्लागंज राष्ट्रीय महामार्ग के सर्विस रोड पर नूपुर वाइन शॉप है.इस शॉप के संचालक ने कल रात दुकान बंद करने के बाद वाइन शॉप के समक्ष ग्राहकों के हितार्थ २ सूचना फलक लगाए।एक फलक में यह लिखा पाया गया कि सुको के निर्देशानुसार १ अप्रैल २०१७ से यह वाइन शॉप बंद किया गया है.कुछ दिन इंतज़ार कीजिये,अधिक जानकारी के लिए ७७०९४४५६१२ पर संपर्क करें तो दूसरे फलक पर १ माह के भीतर यह वाइन शॉप अन्य जगह पर शुरू की जाएँगी।इसके संचालक ने सुको के निर्णय पूर्व मनपा स्थाई समिति की पहली बैठक के दिन स्थाई समिति अध्यक्ष कार्यालय में अध्यक्ष की उपस्थिति में वाइन शॉप बचाने हेतु लिखा-पढ़ी करते पाए गए.जब स्थाई समिति अध्यक्ष के सहायक ने देखा की उनके लिखा-पढ़ी सार्वजानिक हो सकती है तो उन्होंने उक्त संचालक को अध्यक्ष के “एंटी चेम्बर” में भेज दिया।समझ जाता है कि उक्त लिखा-पढ़ी मनपा से सम्बंधित थी,समिति अध्यक्ष में करने की वजह साफ़ थी क्योंकि समिति अध्यक्ष के पक्ष से नूपुर वाइन शॉप के संचालन जुड़े है.और समिति अध्यक्ष के प्रभाग में ही नूपुर वाइन शॉप आता है.वाइन शॉप संचालक शहर का चर्चित चेहरा है,कुछ वर्ष पूर्व वह बीएसएनएल की अवैध रूप से “पेरेलल लाइन” वर्षो तक करता था.फिर जब सत्ताधारी खेमे में प्रवेश किया तब उसे सत्ताधारी पक्ष के नेता ने तोहफे के रूप में केंद्रीय टेलिकॉम से सम्बंधित महामंडल का सदस्य नियुक्त करवाकर दिया।

क्या सत्ताधारी पक्ष अपने पक्ष के शराब व्यापारियों को बचाने के लिए मनपा में कागजों की हेराफेरी कर रही है?
सूत्र बतलाते है कि आज नागपुर जिला परमिट रूम एसोसिएशन,कंट्री लिकर एसोसिएशन व वाइन शॉप एसोसिएशन ने अपने सभी सदस्यों को सूचना दी है कि आज शाम ५ बजे नागपुर जिला परमिट रूम ,नागपुर जिला वाईन शाँप ,देशी दारू असोशियेशन की अहम् बैठक पत्रकार सह निवास के बाजु साई श्रध्दा लाॅन, महाराज बाग रोड पर आयोजित की गयी है. इस बैठक में विशेष आग्रह किया गया है कि लाइसेंसी खुद आये न की प्रतिनिधि को भेजे। इस व्यवसाय में उपजे उथल-पुथल से निपटने के लिए सभी एकजुट हो कर सभी एसोसिएशन के पहल को मजबूती प्रदान करे।बैठक में सूखे के निर्देश के विरोध में ३ दिवसीय बंद पर भी चर्चा हो सकती है.

१ अप्रैल २०१७ को नागपुर लिकर एसोसिएशन ने मुख्यमंत्री को पत्र लिखकर निवेदन किया है कि several roads within city limits are still not denotified and continue to be national & state highways,although the city has been bypassed long before.it is an stablished fact that,highways are used for intercity travel,when a bypass is already made.existing enternal roads within the bypass cease to be highway.

still all roads are not covered within outer ring roads as there are several cities roads which are still termed as highway for development and want of funds.please classify all the roads within outer ring road as city and district roads.