Published On : Mon, Jul 20th, 2020

नागपुर पुलिस एक्शन में , नियम तोड़ने वाले 7690 लोगों पर कार्रवाई

नागपुर: शहर पुलिस ने कोरोना संक्रमण काल में बिना मास्क, सोशल डिस्टेंश की अवहेलना, सार्वजनिक जगह पर भीड़ जमा करने व सड़क पर थूकने के मामले को लेकर पिछले दो माह (मार्च से मई तक) में 7690 लोगों के खिलाफ कार्रवाई की है। मोटर वाहन कानून का उल्लंघन करने पर 60 हजार वाहन चालकों पर विविध धाराओं के तहत कार्रवाई की गई है। इस दौरान 804 दोपहिया, चार पहिया वाहन भी जब्त किए गए हैं।

इन वाहनों को थानों में रखने की जगह नहीं होने से पुलिस की परेशानी बढ़ गई है। इन कार्रवाई के अलावा पुलिस ने रविवार को शहर भर में 588 दोपहिया वाहन, 110 कार और 28 आटोरिक्शा के खिलाफ भी कार्रवाई की है।

संक्रमण की चपेट में पुलिस अधिकारी और कर्मचारी
कोरोना संक्रमण के बंदोबस्त में तैनात 7 पुलिस अधिकारियों और 55 कर्मचारियों को कोरोना पॉजिटिव पाया गया। शहर में ऑपरेशन क्रैक डाउन, ऑपरेशन हैंड्सअप, जेल रिलीज वॉच भी शुरू किया गया है। वर्ष 2019 और जुलाई 2020 की तुलनात्मक अपराध के बारे में भी जानकारी दी गई। चालू वर्ष में जुलाई माह तक 11 हत्या, 40 चेन-स्नैचिंग, 44 लूटपाट, 28 छेड़छाड़, 19 दुष्कर्म व अन्य आपराधिक घटनाएं 225 हुईं हैं। जनवरी से जुलाई 2020 तक करीब 30 प्रतिशत अपराध कम होने की जानकारी पुलिस ने गृहमंत्री को बैठक में दी।

कार्रवाई- शहर भर में 588 दोपहिया वाहन, 110 कार और 28 आटोरिक्शा के खिलाफ पुलिस ने कार्रवाई की है।

इनका किया चालान
1408 बिना मास्क वाले
11 सोशल डिस्टेंस का उल्लंघन करने वाले
126 सड़क पर थूकने वाले
60 हजार वाहन चालकों पर
804 दोपहिया, चार पहिया वाहन जब्त

अनलॉक के बाद भीड़ बढ़ी
उल्लेखनीय है कि गृहमंत्री अनिल देशमुख और पालकमंत्री ने कोरोना संक्रमण में कानून-व्यवस्था के बारे में समीक्षा की है। इस दौरान पुलिस के आला अफसरों ने यह जानकारी दी। 1 जून से अनलॉक होने के बाद कार्यालयों, सार्वजनिक स्थानों और सड़कों पर लोगों की भीड़ बढने लगी है। 1 जून से 1 जुलाई के दौरान बिना मास्क के घूमने वाले 1408, सोशल डिस्टेंसिंग का उल्लंघन करने वाले 11, सड़क पर थूकनेवाले 126 लोगों के खिलाफ चालान कार्रवाई की गई। शहर में पुलिस नाकाबंदी, फिक्स प्वाइंट पर पुलिस के जवान तैनात किए गए हैं। इसके अलावा दंगा निरोधक दस्ता, राज्य आरक्षी पुलिस बल के जवानों को भी कई जगह तैनात किया गया है। जहां प्रतिबंधित क्षेत्र हैं, वहां भी पुलिस तैनात है।