Published On : Wed, Dec 3rd, 2014

अचलपुर के राष्ट्रीय स्कुल के विद्यार्थियों ने महाराष्ट्र का बढ़ाया गौरव


देश की 160 स्कुलों का रहा सहभाग

अचलपुर (अमरावती)। 11 नवंबर से 17 तक चंडीगढ़ में देश के विभिन्न राज्यों के साथ करीब 160 प्रतिकृतियों के साथ देश के विद्यार्थियों ने विज्ञान प्रदर्शनी में सहभाग लिया. राष्ट्रीय स्तर पर विज्ञान प्रदर्शनी का आयोजन चंदीगड में किया गया था. यह आयोजन शासकीय पदवितर महाविद्यालय में किया गया था. इस विज्ञान प्रदर्शनी में भारत भर से राज्यस्तर पर विज्ञान प्रतिकृती के साथ विद्यार्थियों ने सहभाग लिया. जिसमें महाराष्ट्र राज्यस्तर पर प्रथम क्रमांक प्राप्त करने वाली अचलपुर की राष्ट्रीय माध्यमिक और उच्च माध्यमिक विद्यालय ने सभी सहभागी तज्ञ और वैज्ञानिक को आकर्षित किया. राष्ट्रीय माध्य. और उच्च माध्य. विद्यालय के अनुज गणेशराव पाटिल और अंकित विजयराव पिंपलकर इन दोनों विद्यार्थियों ने विज्ञान प्रदर्शनी में अपने विद्यालय के शिक्षक अजित कोल्हे के मार्गदर्शन में सहभाग लिया.

फ्युचर पॉवर प्लांट भविष्य में ऊर्जा शक्ती द्वारा देश में जारी बिजली संकट भारनियम समस्या को दुर करने वाला विद्युत प्रकल्प तैयार कर विद्यार्थियों ने छोटी सी प्रतिकृति में देश के सामने पेश कि है. तालुका, जिला और राज्यस्तर पर अपनी शाला का नाम शिखर पर ले जाने वाले विद्यार्थियों को राष्ट्रीय स्तर पर पहचान मिली है. अब यह प्रतिकृति महाराष्ट्र राज्य का प्रतिनिधित्व करने के बाद झोन स्तर पर दिसंबर 2014 में महाराष्ट्र राज्य की राजधानी मुंबई में पेशकश करने के लिए रखी जाएंगी. राष्ट्रीय स्कुल अचलपुर की इस सफल प्रतिकृति को राष्ट्रीय स्तर पर चंदीगड में, ऐसे देशभर के तज्ञ और प्रतिकृति का निरिक्षण और मुल्यांकन किया था जिस में प्रो. विक्रम सोनी जमिया मीलिया इस्लामिया दिल्ली, प्रो. कपिल हरिपरांजपे भारतीय विज्ञान शिक्षण और शोध इंस्टीट्यूट मोहाली, डॉ. योग नरसिम्मा, डोरे स्वामी वैज्ञानिक राष्ट्रीय ब्रेन रिसर्च केंद्र मानेसर हरियाना.

डॉ. एस.एस.सरकार मंगल मिशन भारतीय संशोधन केंद्र, प्रो. संदीप साहिनपाल पंजाब विद्यापीठ, प्रो. दिपक गुप्ता कानपूर, डॉ. सम्राट मुखोपाध्याय पंजाब इन तज्ञों ने मार्गदर्शन किया और छोटे वैज्ञानिकों द्वारा प्रतिकृति का निरिक्षण और मुल्यांकन किया. राष्ट्रीय कनिष्ठ विज्ञान महाविद्यालय के भविष्य में ऊर्जा प्रकल्प की प्रशंसा की. डॉ. सरकार मंगलमिशन वैज्ञानिक ने राष्ट्रीय स्कुल के विद्यार्थी अनुज पाटिल और अंकित पिंपलकर को मिल कर इन के द्वारा बनायीं गयी प्रतिकृति को गुण गौरव और अभिनंदन किया. इस प्रतिकृति पर भारतीय वैज्ञानिक मंडल में शोध अभियान आरंभ कर दिया है. इन छोटे वैज्ञानिकों को प्रेरणा और मार्गदर्शन करने वाले शिक्षक अजीत कोल्हे ने कहा है की अब इस प्रतिकृति को राष्ट्रीय स्तर से आंतरराष्ट्रीय स्तर पर लेजाने का रास्ता खुला है. सफलता प्राप्त करने पर राष्ट्रीय कनिष्ठ विज्ञान महाविद्यालय के प्राचार्य वि.वि.देवुलकर,उपप्राचार्य बी.एस. अग्रवाल, पर्यवेक्षक पी.एन.सुरपाटने, विज्ञान शिक्षक एस.डी.झंवर, एम.के.येवुल, आर.एस.जोशी और अन्य शिक्षक, कर्मचारी वर्ग के और माता-पिता सभी का सहकार्य मिला इस प्रकार से सफल विद्यार्थियों ने कहाँ है. संस्था अध्यक्ष संजयकुमार रतनकुमार चौधरी, सचिव अनिलबाबू मदनगोपाल चौधरी, व्यवस्थापक मंडल ने विद्यार्थियों के साथ विज्ञान शिक्षक और महाविद्यालय के कर्मचारियों का अभिनंदन किया है.

Science Exibition in indo public school

File Pic