Published On : Tue, Nov 11th, 2014

नागभीड़ : 2 लाख की रिश्वत लेते धरा गया संस्थापक


मांगी थी 10 लाख की रिश्वत

principle bribe
नागभीड़ (चंद्रपुर)।
संत हरीदास कला महाविद्यालय,मिंडाला ता. नागभीड़, जि.चंद्रपुर के फरयादी का 2002 में बगैर  अनुदान पर सहाय्यक प्राध्यापक पद पर चयन हुआ था. तब से बगैर अनुदान पर वे अध्यापक का काम कर रहे है. लेकिन शुरू वर्ष में कनिष्ठ महाविद्यालय की दूसरी नियुक्तियां अनुदान पर आनेपर संस्था के संस्थापक अशोक खंडाले ने फरयादी को अनुदानित प्राध्यापक पद देने के लिए 10 लाख रूपये की रिश्वत मांगी. इस पर से फरयादी ने संस्थापक अशोक खंडाले के खिलाफ एंटी करप्शन ब्युरो, चंद्रपुर में शिकायत दर्ज की.

शिकायत दर्ज करने के बाद फरयादी ने पहले 2 लाख देने और कुछ दिनों के बाद बाकी 8 लाख देने की बात मंजुर की. 10 नवंबर को एंटी करप्शन ब्युरो, चंद्रपुर विभाग के अधिकारी और कर्मचारियों ने संत हरीदास कला महाविद्यालय में जाल बिछाकर संस्थापक अशोक खंडाले को फरयादी प्राचार्य भाऊराव मुनघाटे से 2 लाख की रिश्वत लेते रंगेहात धरदबोचा. आरोपी के खिलाफ रिश्वत प्रतिबंधक कानुन 1988 के तहत नागभीड़ पुलिस स्टेशन में मामला दर्ज किया गया है. आगे की जाँच पुलिस कर रही है.

उक्त कार्रवाई पुलिस उप अधिक्षक चंद्रपुर रोशन यादव के मार्गदर्शन में पुलिस निरीक्षक अजय भुसारी, एसीबी चंद्रपुर और नापोशी महेश मांढरे, पो.शी. सुभाष गोहेकर, संदीप वासेकर, मनोज पिदुरकर ने की है.