Published On : Mon, Aug 22nd, 2016

मुख्य मार्ग के अतिक्रमण हटाने हेतु आम आदमी पार्टी ने मनपा को सौंपा ज्ञापन

AAP submitted Memo in NMC for Remove encroachment
नागपुर:
शनिवार 20 अगस्त 2016 को आम आदमी पार्टी द्वारा देवेन्द्र वानखड़े के नेतृत्व में गुरुकृपा सोसायटी कुंजीलाल पेठ, त्रिशरण चौक के स्थानीय २०-२५ महिलाओं के शिष्टमंडल द्वारा अनेक वर्षों से मुख्य मार्ग को बाधित किये गये अतिक्रमण को हटाने के लिए नागपुर महानगर पालिका धंतोली झोन के सहायुक्त सुभाष जयदेव एवं नागपुर सुधार प्रन्यास के सभापति डॉ दिलीप मैसेकर को मिलकर ज्ञापन सौंपा गया। दोनो अधिकारीयोने तुरंत कार्यवाही करने का आश्वासन दिया।

उपरोक्त अतिक्रमण कुंजीलाल पेठ गुरुकृपा सोसायटी की ओर त्रिशरण चौक से जाने वाले मुख्य मार्ग पर कई वर्षों से झोपड़ा बना कर अवैध अतिक्रमण कर उसे बाधित किया गया है। अतिक्रमणकारियों से बातचीत करने पर वे गाली-गलौच और अभद्र व्यवहार पर ऊतर आते है। जिसकी शिकायत स्थानीय नागरिकों द्वारा समय समय पर संबंधित अधिकारीयों एवं जनप्रतिनिधियों से की जाती रही है। परंतु उनके कानों पर जूं तक नही रेंगती। असामजिक तत्वों द्वारा किये गये अतिक्रमण पर प्रशासकिय अधिकारीयों एवं जनप्रतिनिधियों का मूकदर्शक बन कर उस पर किसी प्रकार की कारवाई न करना सभी के लिए यह कुतूहल का विषय बना हुआ है।

एक आम आदमी द्वारा किये गये छोटीसी गलती पर पुरे प्रशासन का मुस्तैदी के साथ ऐसा खड़ा हो जाता है जैसे उसने कोई संगीन अपराध कर दिया हो, और असामाजिक तत्वों द्वारा किये गये बड़े से बड़े अपराध को नजरंदाज कर उसे शय देना आम आदमी के समझ के परे है।

उपरोक्त अतिक्रमण द्वारा केवल मुख्य मार्ग के बाधित होने के अलावा अन्य समस्याओं से भी स्थानीय नागरिकों को जूझना पड रहा है। जैसे अतिक्रमण के कारण बारिश के पानी निकासी में अवरोध उत्पन्न होना जिसके वजह से पानी का तेज बहाव नागरिकों के घरों के अंदर जाता है, गंदगी का साम्राज्य फ़ैल जाता है, अनेकों प्राण घातक बीमारयों का फैलाव इत्यादि से समस्त नागरिक अनेको वर्षों से त्रस्त है।

साथ ही साथ उपरोक्त अवैध अतिक्रमण के वजह से पड़ोस में स्थित बौद्ध विहार भी अव्यवस्था की मार झेल रहा है। विहार परिसर में बुजुर्ग बच्चे और नागरिक साधना एवं समय व्यतीत करने आते है। परंतु उक्त बौद्ध विहार का जीर्णोद्धार एवं उत्थान का सबसे बड़ा रोड़ा सिर्फ और सिर्फ अवैध अतिक्रमण प्राथमिक दृष्टी में नजर आता है।

ऐसे परिस्थितियों में भी करदाताओं के साथ भेदभाव सिर्फ और सिर्फ नीच दर्जे के राजनीति से प्रेरित जान पड़ता है ऐसी आशंकाए समय समय पर नागरिकों द्वारा व्यक्त की जाती रही है। अभी यदी ३-४ दिन मे प्रशासन ठोस कदम नही ऊठाती, तो स्थानिक महिला रास्तेपर उतरकर आंदोलन को तिव्र करने के तैयारी मे है।

“आप” के शिष्टमंडल में चंद्रशेखर पराड, करण शाहु प्रमुखता से उपस्थित थे। साथ ही साथ प्रज्ञा लोहकरे के अगुआई में स्थानीय नागरिक मेघा सातपुते, कुसूम मुनघाटे, आशा पाटील, सरिता लोहकरे, तारा नगरकर, नेहा चनकापुरे, सुगंधा पाटील, सुलोचना मोघरे, प्रतिभा मेश्राम, जिजाबाई वानखेडे, आदी उपस्थित थे।