Published On : Fri, Nov 21st, 2014

वाशिम : जिले में 7 हजार शौचालयों का निर्माण कार्य प्रारंभ


संगीता आव्हाले के हाथों कार्यक्रम का श्रीगणेश


शौचालय निर्माण कार्य में अभूतपूर्व प्रतिसाद

bhumipujan
वाशिम।
जिले में 14 नवम्बर से प्रारंभ बाल स्वच्छता अभियान का विश्व शौचालय दिवस के साथ ही समापन हुआ. इस अवसर पर जिले में शौचालय निर्माण कार्य के अंतर्गत 6 तालुकाओं में करीब-करीब सभी गांवों में लोक प्रतिनिधियों के हाथों शौचालयों का भूमिपूजन कार्यक्रम किया गया. कई जगहों पर निर्माण कार्य प्रारंभ कर दिया गया है. मुख्य कार्यकारी अधिकारी रुचेश जयवंशी व उप मुख्य कार्यकारी अधिकारी संजय इंगले के मार्गदर्शन में जिला सेल सलाहकारों के साथ ही तालुका के चुने गांवों में प्रत्यक्ष भेंट वार्ता की गई. एक ही दिन में करीब 7 हजार शौचालयों के निर्माण कार्य के भूमिपूजन का कार्य किया गया है.

राम शृंगारे द्वारा यहां जारी विज्ञप्ति के अनुसार, जिले का ब्राण्ड अम्बेस्डर संगीता आव्हाले के सायखेड़ा (ता. मंगरूलपीर) गांव में 50 परिवारों ने शौचालयों का निर्माण कार्य प्रारंभ किया है. गांव की अनेक महिलाओं ने संगीता से प्रेरणा लेकर उनके हाथों कुदाल से खुदवाकर निर्माण कार्य का शुभारंभ करवाया. इस अवसर पर गांव के सरपंच माणिक आव्हाले, जिप के पूर्व सदस्य पंजाब भगत, ग्राम सेवक विजय वानखेड़े, ज्योति गहुले, स्वच्छ भारत अभियान के रूजा सरपाते, राम शृंगारे, रवि पडघान, संदीप ठोंबरे, नारायण आव्हाले के साथ ग्रामीण बहुसंख्य उपस्थित थे. वाशिम तालुका के देपुल, तोरणाला व केकतउमरा गांवों में संगीता आव्हाले के हाथों शौचालयों का भूमिपूजन हुआ. लोगों ने भी इस कार्य में भारी बढ़चढ़कर प्रतिसाद दिया. केकतउमरा में नियोजन की अपेक्षा अधिक शौचालय के भूमिपूजन किया गया.
Kekat Umra
कारंजा तालुका में काजलेश्वर, लोहारा, खेर्डा आदि जगहों में शौचालय बनाने का कार्य प्रारंभ किया गया. अवसर पर अनेक गणमान्य उपस्थित थे. वाशिम तालुका के वाई गांव में तीन गुना यानी 101 शौचालयों का भूमिपूजन जिप के पूर्व समाज कल्याण सभापति किसनराव मस्के के हाथों किया गया. इस अवसर पर उन्होंने शौचालयों की महत्ता पर प्रकाश डालकर लोगों को स्वच्छता का पाठ पढ़ाया. अवसर पर अनेक आम-ओ-खास मौजूद थे.