Published On : Fri, Oct 16th, 2020

कोल कर्मियों को 68500 का बोनस

– अधिकारी-यूनियन प्रतिनिधि बैठक में लिया गया निर्णय,इंटक को रखा गया दूर

नागपुर : कोल इंडिया के आला अधिकारियों की कल गुरुवार को पंजीकृत श्रमिक संगठनों के साथ कर्मचारी हित में महत्वपूर्ण बैठक हुई,जिसमें इंटक को आमंत्रित नहीं किया गया था,वजह यह बतलाई गई कि इंटक असली-नकली की लड़ाई सर्वोच्च न्यायालय में तो चल ही रही,दूसरी ओर प्रस्थापित इंटक में भी 2 फाड़ हो गई हैं.

बहरहाल कल के बैठक में यह निर्णय लिया गया कि वर्ष 2019-20 के लिए प्रति कर्मचारी 68500 रूपए बोनस के तौर पर दिए जाएंगे।


उक्त बैठक गुरुवार को रांची में हुई,बैठक में इंटक छोड़ शेष पंजीकृत मान्यता प्राप्त यूनियन के प्रतिनिधि उपस्थित थे.बैठक में यह भी निर्णय लिया गया कि आगामी 22 अक्टूबर को 68500 रूपए सभी कर्मियों के खाते में जमा कर दिया जाएगा।

स्थानीय WCL,CMPDIL,MECL ,CMPF,BCCL के 45000 कर्मियों को इसका लाभ होगा।

उक्त बैठक में काफी मंथन बाद शाम-शाम को सर्व-सम्मति से उक्त निर्णय लिया गया.इसका लाभ नॉन एग्जीक्यूटिव श्रेणी के अधिकारियों को भी इसका लाभ मिलेगा। वर्तमान वर्ष के दौरान कम से कम 30 दिन काम करने वाले श्रमिक ही बोनस के हक़दार होंगे और इस आर्थिक वर्ष में जिस किसी भी कर्मियों पर बड़े आरोप होगा,उन्हें बोनस का लाभ नहीं मिलेगा।

बैठक में NCL CMD पी. के. सिन्हा,CIL DIRECTOR आर.पी. श्रीवास्तव,CIL DIRECTOR संजीव सोनी,SECL DIRECTOR आर.एस. झा,WCL DIRECTOR संजय कुमार,ECL/CCL DIRECTOR विनय रंजन,MCL DIRECTOR केशव राव,NCL DIRECTOR बिमलेंदू कुमार,CMPDIL DIRECTOR एस. के.गोमास्ता,BCCL DIRECTOR पीवीकेआरएम राव,SCCL DIRECTOR एस. चंद्रशेखर,CIL GM ए.के. चौधरी,BMS प्रतिनिधि बी. के. राय व नरेंद्र कुमार सिंह,HMS प्रतिनिधि नत्थूलाल पांडे व एस.के. पांडे,AITUC प्रतिनिधि रामेन्द्र कुमार व CITU प्रतिनिधि डी.डी. रामनन्दन विशेष रूप से उपस्थित थे.