Published On : Tue, Jun 19th, 2018

मनपा के मध्यान्न भोजन बनानेवाले २०० महिला बचत समूह हुए बेरोजगार

NMC-Nagpur

नागपुर:नागपुर महानगरपालिका स्कूलों में अक्षयपात्र फाउंडेशन द्वारा निशुल्क में दोपहर का भोजन ( पोषण आहार ) दिया जा रहा है. इस कारण अब तक स्कूल के बच्चों को दोपहर का भोजन तैयार करने वाली २०० बचत समूहों से जुड़ी लगभग २००० महिलाएं बेरोजगार हो गई हैं. इन महिलाओं को उक्त कार्य से हटाकर अन्य रोजगार के अवसर न दिए जाने से मनपा का महिलाओं को सक्षम बनाने हेतु किए जा रहे दावों की पोल खुल रही है.

ज्ञात हो कि इस वर्ष मनपा की ९० स्कूल में अक्षयपात्र फाउंडेशन द्वारा स्कूली बच्चों को दोपहर का भोजन दिया जा रहा है. इस वजह से अब तक स्कूल के बच्चों को दोपहर का भोजन तैयार करने वाले २०० बचत समूह की लगभग २००० महिलाएं बेरोजगार हो गई हैं.

उक्त बेरोजगार महिलाओं का अक्षयपात्र फाउंडेशन का विरोध नहीं बल्कि उन्हें अन्य कोई सक्षम रोजगार दिए बिना बेरोजगार किए जाने का विरोध है.
मुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस ने २० अगस्त २०१६ को इस योजना का उद्घाटन अवसर पर कहा था कि इस योजना में महिलाओं को ही सक्षम बनाने के उद्देश्य से तवज्जों दी जाएगी.

बेरोजगार हुई बचत समूह की सदस्या मंगला तिरपुडे के अनुसार उन्हें जब एक बच्चे पर ५० पैसे मिला करते थे, तब से वह बच्चों के लिए दोपहर का भोजन तैयार कर रही हैं. हटाए जाने के पूर्व तक साढ़े ७ रूपए मिल रहे थे. अनेक बार मानधन भी समय पर नहीं मिला करता था. ऐसी परिस्थिति में हमने बच्चों को कभी भूखा नहीं छोड़ा.

एक अन्य महिला बचत समूह की सदस्या सारिका उपरे ने बताया कि बचत समूह के माध्यम से बच्चों के लिए भोजन तैयार करने वाली महिलाओं में विधवा महिलाओं की संख्या अधिक थी. इन्हीं विधवा महिलाओं के भरोसे उनके परिवार का भरण-पोषण जारी था. इन्हें बेरोजगार कर मनपा ने महिलाओं के प्रति अपने रवैये से सबको वाकिफ करा दिया है.